स्वर्ण जयंती अनुशिक्षण योजना 2021: ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन, पात्रता व लाभ

Swarna Jayanti Anushikshan Yojana Apply Online | स्वर्ण जयंती अनुशिक्षण योजना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन | हिमाचल प्रदेश स्वर्ण जयंती अनुशिक्षण योजना एप्लीकेशन फॉर्म

हमारे देश में कई छात्र ऐसे हैं जो उच्च स्तर की शिक्षा प्राप्त तो करना चाहते हैं लेकिन अपनी आर्थिक स्थिति कमजोर होने के कारण शिक्षा प्राप्त करने से वंचित रह जाते हैं। इसी बात को ध्यान में रखते हुए ऐसे बच्चों के लिए सरकार द्वारा विभिन्न प्रकार की योजनाओं का संचालन किया जाता है। जिससे कि देश का कोई भी छात्र शिक्षा प्राप्त करने से वंचित ना रहे। राज्य एवं केंद्र सरकार दोनों मिलकर छात्रों को विभिन्न प्रकार की योजनाओं का लाभ प्रदान करती है। आज हम आपको हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा आरंभ की गई ऐसी ही एक योजना से संबंधित जानकारी प्रदान करने जा रहे हैं जिसका नाम स्वर्ण जयंती अनुशिक्षण योजना है। इस योजना के माध्यम से प्रदेश के बच्चों को निशुल्क कोचिंग मुहैया कराई जाएगी। इस लेख को पढ़कर आपको इस योजना से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी महत्वपूर्ण दस्तावेज, ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्राप्त होगी।

Swarna Jayanti Anushikshan Yojana 2021

हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल द्वारा 5 सितंबर 2021 को स्वर्ण जयंती अनुशिक्षण योजना का शुभारंभ किया गया है। इस योजना के माध्यम से प्रदेश के सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले छात्रों को मेडिकल एवं इंजीनियरिंग कॉलेज में प्रवेश लेने के लिए नीट और जेईई की मुफ्त कोचिंग मुहैया कराई जाएगी। इस योजना का लाभ 9वी से 12वीं कक्षा के छात्र प्राप्त कर सकते हैं। छात्रों के अभिभावकों को इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए किसी भी प्रकार का अतिरिक्त खर्च या फिर कोचिंग सेंटर की फीस जमा करने की आवश्यकता नहीं है। इस योजना का संचालन दो चरणों में किया जाएगा।

शिक्षा विभाग द्वारा तैयार किए गए प्लेटफार्म हर घर पाठशाला के माध्यम से यह कोचिंग प्रदान की जाएगी। शनिवार और रविवार को  9 से 12 वीं तक के छात्रों के लिए कोचिंग में भाग लेना अनिवार्य होगा। यह कोचिंग प्रदान करने के लिए वीडियो शिक्षा विभाग के स्टेट रिसोर्स ग्रुप द्वारा तैयार की जाएगी। इसके अलावा सरकार द्वारा गैर सरकारी संस्था से भी मदद ली जाएगी।

स्वर्ण जयंती अनुशिक्षण योजना

स्वर्ण जयंती अनुशिक्षण योजना का शुभारंभ

सरकार द्वारा स्वर्ण जयंती अनुशिक्षण योजना का शुभारंभ 15 सितंबर 2021 को कर दिया गया है। अब प्रदेश के सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले 9बी से 12वीं तक के छात्र नीट एवं जेईई के लिए निशुल्क कोचिंग प्राप्त कर सकेंगे। इस योजना के माध्यम से छात्रों को शनिवार एवं रविवार को कोचिंग क्लास में भाग लेना अनिवार्य होगा। इस योजना के कार्यान्वयन के लिए विस्तृत गाइडलाइन निर्देशक उच्चतर शिक्षा विभाग डॉ अमरजीत शर्मा द्वारा जारी कर दी गई है। इसके अलावा सभी जिलों के शिक्षा उप निर्देशकों को इस संबंध में निर्देश भी प्रदान किए गए हैं। निदेशक उच्च शिक्षा विभाग द्वारा सभी अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि इस योजना की मॉनिटरिंग की जाए एवं स्कूलों से फीडबैक लिए जाएं। इसके अलावा इस योजना का स्टडी मटेरियल हर घर पाठशाला के पोर्टल पर उपलब्ध करवाया जाएगा। इस योजना को 5 सितंबर को शिक्षक दिवस के मौके पर राज्यपाल द्वारा आरंभ किया गया था। इस योजना का लाभ लगभग 2 लाख विद्यार्थी उठा सकेंगे।

जिला स्तर पर किया जाएगा कमेटी का गठन

शिक्षकों द्वारा छात्रों की मोबाइल पर लिंक भेजी जाएगी यह लिंक यूट्यूब की होगी। इस लिंक के माध्यम से विद्यार्थी कोचिंग प्राप्त कर सकेंगे। हर घर पाठशाला अभियान के अंतर्गत वीडियो की लिंक शिक्षकों को भेजने का कार्य आरंभ कर दिया गया है। शनिवार को यह लिंक विद्यार्थियों को व्हाट्सएप ग्रुप के माध्यम से प्रदान की जाएगी। इसके अलावा सरकारी स्कूल के विद्यार्थियों को उच्च गुणवत्ता की गणित और विज्ञान की सामग्री उपलब्ध करवाई जाएगी। हर सप्ताह 15 से 18 घंटे की कक्षाएं एवं सांध्य समाधान भी किया जाएगा। इस योजना के कार्यान्वयन के लिए सरकार द्वारा जिला स्तर पर कमेटी का भी गठन किया जाएगा। इस कमेटी में डाइट के प्रधानाचार्य, उच्च शिक्षा के उपनिदेशक और स्कूलों के विज्ञान गणित के पर्यवेक्षक शामिल किए गए हैं। यह कमेटी मेधावी छात्रों की पहचान करने में सहायता प्रदान करेगी। इस योजना का कार्यान्वयन दो चरणों में किया जाएगा। पहले चरण में हर घर पाठशाला के माध्यम से छात्रों के उच्च गुणवत्ता वाली गणित और विज्ञान की सामग्री उपलब्ध करवाई जाएगी एवं दूसरे चरण में 100 उच्च प्रदर्शन करने वाले छात्र-छात्राओं की पहचान करने के लिए चयन परीक्षा होगी।

Key Highlights Of Swarna Jayanti Anushikshan Yojana 2021

योजना का नामस्वर्ण जयंती अनुशिक्षण योजना
किसने आरंभ कीहिमाचल प्रदेश सरकार
लाभार्थीहिमाचल प्रदेश के छात्र
उद्देश्यजेईई एवं नीट की परीक्षा के लिए निशुल्क कोचिंग प्रदान करना।
आधिकारिक वेबसाइटजल्द लॉन्च की जाएगी
साल2021
बजट5 करोड़ रुपए
राज्यहिमाचल प्रदेश
आवेदन का प्रकारऑनलाइन/ऑफलाइन

हिमाचल प्रदेश स्वर्ण जयंती अनुशिक्षण योजना के चरण

स्वर्ण जयंती अनुशिक्षण योजना की घोषणा हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर जी के द्वारा बजट भाषण में की गई थी। इस कोचिंग के पहले चरण में विज्ञान और गणित की कोचिंग प्रदान की जाएगी। इसके अलावा नीट में किस तरह के प्रश्न आते हैं, जेईई का पेपर कैसे होता है, तैयारी करने के लिए कौन सी किताबें होनी चाहिए, सिलेबस आदि से संबंधित जानकारी दी जाएगी। 11 वीं कक्षा पास करने के बाद जब बच्चे 12वीं कक्षा में प्रवेश करेंगे तो उनका टेस्ट लिया जाएगा। इस टेस्ट को उत्तीर्ण करने वाले 10% छात्रों का चयन फाइनल कोचिंग के लिए किया जाएगा। स्कूल शिक्षकों की भी इस योजना के संचालन के लिए एक मुख्य भूमिका रहेगी।

वीडियो देखने के बाद बच्चों के मन में उत्पन्न हुए सवालों के जवाब स्कूली शिक्षकों को ही देने होंगे। विभाग द्वारा सभी शिक्षकों को यह निर्देश दिए गए हैं कि वह इन विषयों को लेकर पूरी तरह से अपडेटेड रहे। सरकार द्वारा इस योजना के संचालन के लिए 5 करोड़ रुपए का बजट निर्धारित किया गया है।

स्वर्ण जयंती अनुशिक्षण योजना का उद्देश्य

इस योजना का मुख्य उद्देश्य सरकारी स्कूल में शिक्षा प्राप्त करने वाले छात्रों को मेडिकल और इंजीनियरिंग में प्रवेश लेने के लिए तैयार करना है। अब प्रदेश के वे सभी बच्चे जो आर्थिक रूप से कमजोर है वह इस योजना के माध्यम से निशुल्क नीट तथा जेईई के लिए कोचिंग प्राप्त कर सकेंगे। स्वर्ण जयंती अनुशिक्षण योजना के संचालन से प्रदेश के ज्यादा से ज्यादा छात्र शिक्षा प्राप्त करने में सक्षम बन सकेंगे। इसके अलावा यह योजना रोजगार को बढ़ाने में भी कारगर साबित होगी। अब प्रदेश का प्रत्येक बच्चा कोचिंग प्राप्त करके इंजीनियरिंग एवं मेडिकल कॉलेज में प्रवेश लेने के लिए सक्षम बन सकेगा। यह योजना सरकारी स्कूलों में पढ़ रहे बच्चों को सशक्त एवं आत्मनिर्भर भी बनाएगी।

स्वर्ण जयंती अनुशिक्षण योजना के लाभ तथा विशेषताएं

  • Swarna Jayanti Anushikshan Yojana 2021 का शुभारंभ हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा 5 सितंबर 2021 को किया गया है।
  • इस योजना के माध्यम से प्रदेश के सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों को मेडिकल एवं इंजीनियरिंग कॉलेज में प्रवेश लेने के लिए नीट और जेईई की मुफ्त कोचिंग उपलब्ध करवाई जाएगी।
  • कक्षा 9 से 12 तक पढ़ने वाले छात्र इस योजना का लाभ प्राप्त करने के पात्र हैं।
  • इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए छात्रों के अभिभावकों को किसी भी प्रकार का अतिरिक्त खर्च या फिर कोचिंग सेंटर की फीस जमा करने की आवश्यकता नहीं है।
  • इस योजना का संचालन दो चरणों में किया जाएगा।
  • शिक्षा विभाग द्वारा तैयार किए गए प्लेटफार्म हर घर पाठशाला के माध्यम से यह कोचिंग प्रदान की जाएगी।
  • यह कोचिंग शनिवार और रविवार को प्रदान की जाएगी।
  • इस कोचिंग में 9वी से 11वीं तक के छात्रों को भाग लेना अनिवार्य है।
  • कोचिंग के लिए वीडियो शिक्षा विभाग के स्टेट रिसोर्स ग्रुप द्वारा तैयार की जाएगी।
  • इसके अलावा सरकार द्वारा गैर सरकारी संस्था से भी मदद प्राप्त की जाएगी।
  • इस योजना को आरंभ करने की घोषणा हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर जी के द्वारा बजट भाषण में की गई थी।
  • इस कोचिंग के पहले चरण में विज्ञान और गणित की कोचिंग प्रदान की जाएगी।
  • 11वीं कक्षा उत्तीर्ण करने के बाद जब छात्र 12वीं कक्षा में प्रवेश करेंगे तो उनका टेस्ट लिया जाएगा।
  • इस टेस्ट को उत्तीर्ण करने वाले 10% छात्रों का चयन फाइनल कोचिंग के लिए किया जाएगा।
  • सरकार द्वारा इस योजना के संचालन के लिए 5 करोड़ रुपया का बजट निर्धारित किया गया है।

स्वर्ण जयंती अनुशिक्षण योजना की पात्रता

  • आवेदक हिमाचल प्रदेश का स्थाई निवासी होना चाहिए।
  • इस योजना का लाभ केवल सरकारी स्कूल में पढ़ने वाले छात्र ही प्राप्त कर सकते हैं।
  • केवल 9 से 12 वीं तक के छात्र ही इस योजना का लाभ प्राप्त करने के पात्र है।

महत्वपूर्ण दस्तावेज

  • आधार कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाण पत्र
  • आयु का प्रमाण
  • मार्कशीट
  • पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ
  • मोबाइल नंबर

स्वर्ण जयंती अनुशिक्षण योजना आवेदन करने की प्रक्रिया

हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा अभी केवल स्वर्ण जयंती अनुशिक्षण योजना आरंभ करने की घोषणा की गई है। जल्द सरकार द्वारा इस योजना के अंतर्गत आवेदन से संबंधित जानकारी प्रदान की जाएगी। जैसे ही सरकार इस योजना के अंतर्गत आवेदन करने से संबंधित किसी भी प्रकार की जानकारी प्रदान करती है हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से जरूर बताएंगे। तो आप से निवेदन है कि आप हमारे इस लेख से जुड़े रहे हैं।

Leave a Comment