सुकन्या समृद्धि योजना 2021: Sukanya Samriddhi Yojana, PM Kanya Yojana

Sukanya Samriddhi Yojana in Hindi | Sukanya Samriddhi Yojana Online Form | सुकन्या समृद्धि योजना कैलकुलेटर | सुकन्या समृद्धि योजना इंटरेस्ट रेट

भारत सरकार द्वारा देश की बेटियों का भविष्य उज्जवल बनाने के लिए कई सारी योजनाएं सरकार द्वारा चलाई जा रही हैं। ऐसी ही एक योजना सुकन्या समृद्धि योजना है। आज हम आपको इस लेख के माध्यम से सुकन्या समृद्धि योजना से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करने जा रहे हैं। जैसे कि सुकन्या समृद्धि योजना क्या है? इसका उद्देश्य, लाभ, विशेषताएं, पात्रता, महत्वपूर्ण दस्तावेज, आवेदन प्रक्रिया आदि। तो दोस्तों यदि आप Sukanya Samriddhi Yojana 2021 से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आप से निवेदन है कि आप हमारे इस लेख को अंत तक पढ़े। हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से सुकन्या समृद्धि योजना से संबंधित सभी जानकारी साझा करेंगे।

Table of Contents

Sukanya Samriddhi Yojana 2021

सुकन्या समृद्धि योजना को 22 जनवरी 2015 को हमारे देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा आरंभ किया गया है। इस योजना के अंतर्गत बेटी के माता पिता द्वारा बेटी के लिए बचत खाता किसी भी राष्ट्रीय बैंक में या फिर पोस्ट ऑफिस में खोला जाएगा। वह सभी माता-पिता जो अपनी बेटी की पढ़ाई और शादी के लिए पैसे जमा करना चाहते हैं वह इस योजना के अंतर्गत बचत खाता खोल सकते हैं। इस खाते को खोलने के लिए न्यूनतम राशि ₹250 है तथा अधिकतम राशि 1.5 लाख रुपए है। पहले Sukanya Samriddhi Yojana 2021 के अंतर्गत 9.1 प्रतिशत की ब्याज दर थी जो कि अब 8.6 प्रतिशत की कर दी गई है।

सुकन्या समृद्धि योजना डिजिटल अकाउंट के माध्यम से किया जा सकेगा पैसा जमा

भारतीय डाकघर द्वारा संचालित सुकन्या समृद्धि योजना भारत सरकार ने बेटियों की शिक्षा तथा उनके विवाह के लिए आरंभ की थी। इस योजना के अंतर्गत पैसों का भुगतान करने के लिए पोस्ट ऑफिस जाना पड़ता है। पर अब भारतीय डाक घर द्वारा डिजिटल अकाउंट लांच किया गया है। इस डिजिटल अकाउंट के माध्यम से सुकन्या समृद्धि योजना के खाते में पैसे जमा किए जाएंगे। अब पोस्ट ऑफिस में भी अन्य बैंकों की तरह डिजिटल सेविंग अकाउंट सेवा शुरू की गई है। इस डिजिटल अकाउंट की वजह से अब खाताधारकों को खाते में पैसे जमा करने के लिए पोस्ट ऑफिस जाने की आवश्यकता नहीं है। वह अपने मोबाइल के माध्यम से पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं।

यह डिजिटल अकाउंट खोलने के लिए भी आपको पोस्ट ऑफिस जाने की आवश्यकता नहीं है। इस अकाउंट को आधार कार्ड तथा पैन कार्ड के माध्यम से घर बैठे खोला जा सकता है और पोस्ट ऑफिस की किसी भी स्कीम में पैसे ट्रांसफर किए जा सकते हैं। यह डिजिटल अकाउंट 1 साल के लिए वैध है।

IPPB ऐप का किया गया आरंभ

डाकघर द्वारा आईपीपीबी एप का भी आरंभ किया गया है। जिसके माध्यम से ग्राहकों को लेन-देन की सुविधा  प्रदान की जाएगी। इस ऐप के माध्यम से ऑनलाइन पैसे ट्रांसफर किए जा सकेंगे और सुकन्या समृद्धि योजना के साथ अन्य डाकघर की योजनाओं में भी पैसे जमा किए जा सकेंगे। इस ऐप के माध्यम से घर बैठे डिजिटल अकाउंट खोला जा सकता है। यह डिजिटल अकाउंट खोलने के लिए आपकी आयु 18 वर्ष होनी अनिवार्य है।

Sukanya Samriddhi Yojana In Highlights

योजना का नामसुकन्या समृद्धि योजना
इनके द्वारा शुरू किया गयाकेंद्र सरकार द्वारा
लाभार्थीदेश की बालिकाएं
उद्देश्यबेटियों का भविष्य उज्जवल बनाना
ऑफिसियल वेबसाइट 

सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत कितनी बेटियों को लाभ मिल सकता है?

Sukanya Samriddhi Yojana 2021 के अंतर्गत केवल एक परिवार की दो बेटियों को ही लाभ मिल सकता है। यदि एक परिवार में 2 से अधिक बेटियां हैं तो इस योजना का लाभ केवल उस परिवार की दो बेटियां ही उठा सकते हैं। लेकिन यदि किसी परिवार में जुड़वा बेटियां हैं तो उन्हें इस योजना का लाभ अलग-अलग मिलेगा यानी कि फिर उस परिवार की तीन बेटियां लाभ उठा पाएंगी। जुड़वा बेटियों की गिनती एक ही होगी लेकिन उनको लाभ अलग-अलग दिया जाएगा।इस योजना के अंतर्गत वह सभी लोग अपनी बेटी का खाता खोल सकते हैं जो अपनी बेटी की शादी तथा पढ़ाई के लिए पैसा जमा करना चाहते हैं। आपको बता दें इस योजना के अंतर्गत 10 साल से कम की आयु की कन्याओं का खाता खोला जा सकता है। Sukanya Samriddhi Yojana को सरकार द्वारा बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ योजना के अंतर्गत आरंभ किया गया है।

सुकन्या समृद्धि योजना लोन

सरकार द्वारा चलाई जाने वाली विभिन्न पीपीएफ योजनाओं के अंतर्गत ऋण प्राप्त किया जा सकता है। लेकिन सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत अन्य पीपीएफ योजना के जैसे लोन नहीं प्राप्त किया जा सकता है। परंतु यदि बालिका 18 वर्ष की हो गई है तो इस योजना के खाते से अभिभावकों द्वारा निकासी की जा सकती है। यह निकासी केवल 50% की ही की जा सकती है। सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत की गई निकासी बालिकाओं की बेहतरी के लिए की जा सकती है। इस राशि को बालिका की शादी, उच्च शिक्षा आदि के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

सुकन्या समृद्धि योजना अकाउंट ट्रांसफर

सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत एक पोस्ट ऑफिस से दूसरे पोस्ट ऑफिस में या फिर एक बैंक से दूसरे बैंक में अकाउंट को ट्रांसफर किया जा सकता है। इस अकाउंट को ट्रांसफर करने के लिए आपको निम्नलिखित प्रक्रिया को फॉलो करना होगा।

  • सर्वप्रथम आपको अपनी अपडेटेड पासबुक और केवाईसी दस्तावेजों को लेकर डाकघर में या फिर बैंक में जाना होगा। ट्रांसफर के दौरान बालिकाओं को उपस्थित होने की आवश्यकता नहीं है।
  • इसके पश्चात आपको अपने सुकन्या समृद्धि अकाउंट की पासबुक एवं केवाईसी डॉक्यूमेंट को अपने बैंक या पर पोस्ट ऑफिस में जमा करना होगा और अपने बैंक एवं पोस्ट ऑफिस को इस बात की सूचना देनी होगी कि आपको अपना खाता ट्रांसफर करना है।
  • इसके बाद मैनेजर आपका खाता पुरानी पोस्ट ऑफिस या फिर बैंक में बंद कर देगा और ट्रांसफर रिक्वेस्ट आपको देगा। इसके अलावा आपसे सभी जरूरी दस्तावेजों की मांग की जाएगी।
  • अब आपको यह ट्रांसफर रिक्वेस्ट लेकर नए पोस्ट ऑफिस या फिर बैंक अकाउंट में जाना होगा और वहां पर यह सभी दस्तावेज सबमिट करने होंगे।
  • पहचान एवं पते के प्रमाण के लिए आपको केवाईसी दस्तावेजों को भी जमा करना होगा।
  • अब आपको एक नई पासबुक दी जाएगी जिसमें आपकी शेष राशि प्रदर्शित होगी।
  • इसके पश्चात आप अपने इस नया अकाउंट से सुकन्या समृद्धि योजना अकाउंट का संचालन कर सकते हैं।

सुकन्या समृद्धि योजना दिसंबर अपडेट

इंडिया पोस्ट द्वारा नौ प्रकार की बचत योजनाएं चलाई जाती हैं। जिनको पोस्ट ऑफिस सेविंग स्कीम के नाम से जाना जाता है। यह 9 प्रकार की स्कीम पोस्ट ऑफिस सेविंग अकाउंट, पोस्ट ऑफिस टाइम डिपॉजिट अकाउंट, पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम, पब्लिक प्रोविडेंट फंड, सुकन्या समृद्धि योजना, नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट, 5 साल के लिए पोस्ट ऑफिस टाइम डिपॉजिट, किसान विकास पत्र और सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम शामिल है। सरकार द्वारा इन सभी बचत योजनाओं के ब्याज दर में समय समय पर संशोधन किया जाता है। Sukanya Samriddhi Yojana के अंतर्गत फिलहाल 7.6 प्रतिशत का ब्याज दर है।

इस योजना का लाभ एक परिवार की अधिकतम दो बेटियां उठा सकती हैं। इस योजना के अंतर्गत जब बच्चा 21 वर्ष की आयु का हो जाता है तो वह परीपक्ता राशि प्राप्त कर सकता है। यदि यह माना जाए कि इस योजना के अंतर्गत भविष्य में भी 7.6 प्रतिशत ब्याज दर रहेगी तो इस योजना के अंतर्गत जमा किए हुए पैसों को दोगुना होने में 9.4 वर्ष लगेंगे।

सुकन्या समृद्धि योजना खाता रिओपन करने की प्रक्रिया

जैसे कि आप सभी लोग जानते हैं सुकन्या समृद्धि योजना को भारत सरकार ने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के अंतर्गत आरंभ किया था। इस योजना के अंतर्गत बेटी की 10 वर्ष की आयु से पहले उसकी पढ़ाई तथा शादी के लिए खाता खुलवाया जा सकता है। यह एक बहुत ही लोकप्रिय योजना है। Sukanya Samriddhi Yojana के अंतर्गत खाते में प्रतिवर्ष न्यूनतम ₹250 रुपए की राशि तथा अधिकतम 1.5 लाख रुपए की राशि जमा की जा सकती है। इस खाते को जारी रखने के लिए लाभार्थी को प्रति वर्ष ₹250 जमा करने अनिवार्य हैं। यदि लाभार्थी ने किसी वर्ष ₹250 की राशि जमा नहीं की है तो फिर उसका अकाउंट बंद हो जाएगा।

  • अकाउंट बंद होने के बाद अकाउंट को एक्टिवेट करवाया जा सकता है। इसके लिए लाभार्थी को बैंक या फिर पोस्ट ऑफिस जहां भी उसका अकाउंट खुला हुआ है वहां जाना होगा। इसके पश्चात लाभार्थी को खाता दोबारा चालू करवाने का फॉर्म भरकर जमा करना होगा और बकाया राशि का भुगतान करना होगा।
  • मान लीजिए आपने 2 वर्ष से ₹250 की पेमेंट नहीं की है तो आपको ₹500 की पेमेंट करनी होगी तथा प्रति वर्ष ₹50 की पेनल्टी का भुगतान करना होगा। 2 वर्ष की पेनल्टी ₹100 हो जाएगी। तो यदि आप ने 2 वर्ष से सुकन्या समृद्धि योजना खाते में न्यूनतम राशि का भुगतान नहीं किया है तो आप को कम से कम ₹600 का भुगतान करना होगा। इसमें ₹500 दो वर्ष की न्यूनतम राशि तथा ₹100 दो वर्ष की पेनल्टी के होंगे।

Sukanya Samriddhi Scheme New Update

देश में कोरोना वायरस की वजह से भारतीय अर्थव्यवस्था की आर्थिक गतिविधियों पर काफी प्रभाव पड़ा है आरबीआई की तरफ रेपो रेट घटाए जाने के बाद सरकार ने एसएसवाई सहित छोटी बचत योजनाओं के लिए पिछले महीने ब्याज दरों में कटौती की घोषणा की।इस योजना के अंतर्गत पोस्ट ऑफिस रिकरिंग डिपॉजिट (आरडी) और टाइम डिपॉजिट पर 1-3 साल की ब्याज दरों में 1.4 फीसदी की कमी की गई, पीपीएफ और एसएसवाई में 0.8 फीसदी की कटौती की गई। इससे आपकी बेटी के लिए मैच्योरिटी राशि में कमी आएगी। इस Sukanya Samriddhi Scheme के अंतर्गत ब्याज दर कम होने के बाद लाभार्थी के खातों में दी जाने वाली ब्याज की वार्षिक दर पहले के 8.4 प्रतिशत की तुलना में 7.6 प्रतिशत रह गई है।

प्रतिवर्ष कितने पैसे देने होंगे तथा कब तक देना होगा?

सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत पहले प्रति महा ₹1000 देने का प्रावधान था। जो कि अब काम करके ₹250 प्रतिमाह कर दिया गया है। इस योजना के अंतर्गत ₹250 से लेकर ₹150000 तक निवेश किए जा सकते हैं। इस योजना के अंतर्गत बैंक अकाउंट खुलवाने के 14 साल तक निवेश करना अनिवार्य होगा।

सुकन्या समृद्धि योजना में  किये गए बदलाव

इस योजना के अंतर्गत सरकार द्वारा पांच बदलाव किये गए है । जिसके बारे में जानना आपको बहुत ज़रूरी है । हमने इन पांच बदलाव के बारे में नीचे दी गयी है । आप इस सूचनाओं को ध्यानपूर्वक पढ़े ।

डिफॉल्ट अकाउंट पर अधिक ब्याज दर

Sukanya Samridhi Yojana के अंतर्गत अगर कोई व्यक्ति सुकन्या समृद्धि अकाउंट में न्यूनतम 250 रूपये की धनराशि एक वर्ष में जमा नहीं करता है तो उसे डिफॉल्ट अकाउंट माना जाता है। सरकार द्वारा 12 दिसंबर, 2019 को अधिसूचित नए नियम के मुताबिक, अब ऐसे डिफॉल्ट अकाउंट में जमा रकम पर वही इंट्रेस्ट रेट दिया जायेगा जो इस योजना के तहत तय किया गया है ।इसके साथ ही सुकन्या समृद्धि योजना खाते पर 8.7% तो पोस्ट ऑफिस बचत खाते पर 4% की ब्याज दर मिलेगी ।

प्रीमैच्योर अकाउंट क्लोज करने के नियम में बदलाव

इस नए नियम के अनुसार इस योजना के अंतर्गत बच्ची की मौत होने या सहानुभूति के आधार पर अकाउंट को परिपक्वता अवधि से पहले बंद किया जा सकता है। सहानुभूति का तात्पर्य उस स्थिति से है, जिसमें अकाउंट होल्डर को जानलेवा बीमारी का इलाज कराना हो या अभिभावक की मौत हो गई हो।ऐसी स्थिति में बैंक अकाउंट को परिपक्वता अवधि से पहले बंद कर सकते है ।

अकाउंट का संचालन

इस योजना के तहत सरकार के नए नियमों के अनुसार जिस बच्ची के नाम से अकाउंट है, वह जबतक 18 साल की नहीं हो जाती तबतक अपने खाते का संचालन अपने हाथ में नहीं ले सकती है, जबकि पहले यह आयु 10 साल थी। जब बच्ची 18 साल की हो जाएगी, तो अभिभावक को बच्ची से संबंधित दस्तावेज पोस्ट ऑफिस में जमा कराना होगा।

दो बच्चियों से अधिक का खाता खुलवाना

इस योजना के अंतर्गत नए नियम के अनुसार अगर कोई व्यक्तियों अपनी दो बेटियों से अधिक का अकाउंट खुलवाने के लिए अतिरिक्त दस्तावेज जमा कराने होंगे ।अब आपको बेटी के बर्थ सर्टिफिकेट के साथ एक हलफनामा भी देना आवश्यक है ।

अन्य बदलाव

Sukanya Samridhi Yojana के नियमों में उपरोक्त बदलावों के अलावा कुछ नए प्रावधान जोड़े गए हैं, जबकि कुछ हटाए गए हैं। इनके बारे में अभी तक स्पष्ट नहीं किया गया है।जैसे ही इसके बारे में कुछ जानकारी हमे मिल जाएगी हम आपको अपने आर्टिकल के माध्यम से बता देंगे ।

सुकन्या समृद्धि योजना 2021 का उद्देश्य

योजना का उद्देश्य लड़कियों को शिक्षा के क्षेत्र में आगे बढ़ाना और विवाह योग्य होने पर पैसो की कमी न आने देना |देश के गरीब लोग बचत खाते में अपनी बेटी की पढाई और शादी में होने वाले खर्च को आसानी से पूरा कर सकते है और अपनी बेटी का खाता न्यूनतम 250 रूपये में बैंक में खुलवा सकते है |इस SSY 2021 से देश की लड़कियों को प्रोत्साहन मिलेगा और वह आगे बढ़ पायेगी |इस योजना के ज़रिये लड़कियों की भ्रूण हत्या को रोकना |

Sukanya Samriddhi Yojana

Interest Rate in SSY 2021

Financial Year Interest  rate
From April 1, 2014 9.1%
From April 1, 2015 9.2%
From April 1, 2016 -June 30, 2016 8.6%
From July 1, 2016-September 30, 2016 8.6%
From October 1, 2016-December 31, 2016 8.5%
From January 1, 2018 – March 31, 2018 8.3%
From April 1, 2018 -June 30, 2018 8.1%
From July 1, 2018 -September 30, 2018 8.1%
From October 1, 2018 – December 31, 2018 8.5%
From July 1, 2016 8.4%

SSY Scheme 2021                                                      

इस योजना के अंतर्गत खाता खुलने के बाद यह खाता कन्या के 18 साल के होने के बाद या 21 साल के होने के बाद शादी होने तक चलाई जा सकती है | SSY 2021 के तहत व्यक्ति अपनी  कन्या की आयु 18 वर्ष होने के पश्चात उसकी पढाई के लिए कुल जमा राशि में से 50 % निकल सकते है और बेटी के 21 साल के होने के पश्चात् शादी के लिए पूरी जमा धनराशि निकाल सकते है जिसमे लाभार्थी द्वारा जमा की गयी धनराशि और और एजेंसी द्वारा भुगतान की गयी ब्याज धनराशि भी शामिल होगी | यह खाता बेटी के 21 साल के पुरे होने पर ही परिपक्व होगा |

 सुकन्या समृद्धि योजना खाता में धनराशि जमा कैसे करे

सुकन्या समृद्धि योजना 2021 खाते के धनराशि केश ,डिमांड ड्राफ्ट से जमा कर सकते है या जिस पोस्ट ऑफिस या बैंक में कोर बैंकिंग सिस्टम मौजूद हो उसमे इलेक्टॉनिक ट्रांसफर मोड से भी जमा कर सकते है खाता खुलवाने के लिए नाम और अकॉउंट होल्डर का नाम लिखना होगा | इन सभी आसान तरीके से कोई भी व्यक्ति अपनी बेटी के खाते में पैसे जमा करवा सकते है |

आयु तक खोला जा सकता है सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत अकाउंट

सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत 0 आयु से लेकर 10 साल की आयु तक बेटी का बैंक अकाउंट खोला जा सकता है। इस योजना के अंतर्गत यदि बेटी की आयु 10 वर्ष से ज्यादा है तो बैंक अकाउंट नहीं खोला जा सकता। अकाउंट का संचालन बेटी के माता-पिता या फिर अभिभावक के पास होगा।

एसएसवाई सुकन्या समृद्धि योजना परिपक्वता और आंशिक निकासी

कुछ लोग समझते है कि सुकन्या समृद्धि खाता 21 वर्ष की होने के साथ परिपक्व हो जाता है लेकिन यह पूरी तरह से गलत है। खाते की परिपक्वता के साथ लड़की की उम्र का कोई संबंध नहीं है।हालांकि, खाताधारक केवल तभी राशि निकाल सकता है जब वह 18 वर्ष की आयु प्राप्त करता है और राशि का उपयोग उच्च अध्ययन और विवाह के लिए किया जा रहा है।इसकी परिपक्वता के बाद खाता बंद कर दिया जाएगा। सक्षम प्राधिकारी द्वारा जारी मृत्यु प्रमाण पत्र के उत्पादन पर खाताधारक की मृत्यु की स्थिति में खाते को समय से पहले बंद करने की अनुमति है। फिर शेष को अभिभावक को जमा किया जाता है और खाता बंद कर दिया जाता है।

प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना

किन स्थितियों में सुकन्या समृद्धि खाता मैच्योरिटी से पहले बंद हो सकता है?

यदि खाता धारक की मृत्यु हो जाती है तो सुकन्या समृद्धि योजना खाता बंद करवाया जा सकता है। इस स्थिति में खाताधारक का मृत्यु प्रमाण पत्र दिखाना अनिवार्य होगा। जिसके पश्चात इस खाते में जमा धनराशि बेटी के अभिभावक को ब्याज सहित लौटा दी जाएगी। इसके अलावा सुकन्या समृद्धि योजना खाता खुलवाने के 5 साल बाद भी किसी कारणवश बंद कराया जा सकता है। इस स्थिति में सेविंग बैंक अकाउंट के हिसाब से ब्याज दर मिलेगी। खाते में से 50% धनराशि बेटी की पढ़ाई के लिए भी निकाली जा सकती है। यह निकासी बेटी के 18 वर्ष के होने के बाद ही की जा सकती है।

यदि सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत नहीं जमा हो पाई तो क्या होगा?

किसी कारणवश Sukanya Samriddhi Yojana के अंतर्गत खाताधारक रकम नहीं जमा कर पाता है तो उसे ₹50 सालाना की पेनल्टी देनी होगी। और इसी के साथ हर साल की न्यूनतम राशि का भुगतान करना होगा। यदि पेनल्टी नहीं चुकाई गई तो सुकन्या समृद्धि योजना खाते में सेविंग अकाउंट के बराबर ब्याज दर मिलेगा जो चार फीसदी है।

PM Kanya Yojana टैक्स बेनिफिट

इनकम टैक्स अधिनियम 1961 के सेक्शन 80C के अंतर्गत सुकन्या समृद्धि योजना में जमा की गई धनराशि,ब्याज की राशि तथा मेच्योरिटी अमाउंट को टैक्स फ्री किया है। इस योजना के अंतर्गत किए गए योगदान पर सरकार द्वारा छूट प्रदान की गई है जो कि प्रतिवर्ष ₹150000 तक है।

सुकन्या समृद्धि योजना कर लाभ

  • आयकर अधिनियम के अनुसार, इस योजना के तहत किए गए सभी निवेश कर कटौती के लाभ के लिए पात्र हैं। SSY की ओर अधिकतम 1.5 लाख की कर कटौती स्वीकार्य है।
  • इसके तहत ब्याज जमा होता है, जिसे वार्षिक आधार पर खाते में जमा किया जाता है। इस अर्जित / संचित ब्याज पर कोई कर नहीं लगाया जाता है। यह योजना के तहत धन को अधिकतम करने की अनुमति देता है।
  • टैक्स छूट का दावा या तो लड़की के माता-पिता या कानूनी अभिभावक द्वारा किया जा सकता है। केवल एक जमाकर्ता आयकर अधिनियम की धारा 80 सी के तहत कर छूट के लिए पात्र है।

Sukanya Samriddhi Yojana 2021 के मुख्य तथ्य

जैसे कि आप सभी लोग जानते हैं सुकन्या समृद्धि योजना को सरकार द्वारा बेटियों के भविष्य को सुरक्षित रखने और उनकी पढ़ाई तथा शादी के लिए आरंभ किया गया है। इस योजना के अंतर्गत निवेश करके बेटी के भविष्य को सुरक्षित किया जा सकता है। इस योजना की कुछ विशेषताएं है जो की कुछ इस प्रकार है।

  • सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत 10 साल से कम उम्र की बेटी का अकाउंट खुलवाया जा सकता है।
  • अकाउंट किसी भी पोस्ट ऑफिस या फिर बैंक में खुलवाया जा सकता है।
  • इस योजना के अंतर्गत एक परिवार की अधिकतम दो बच्चों का अकाउंट खुलवाया जा सकता है।
  • कुछ विशेष परिस्थितियों में एक परिवार की तीन बच्चों का अकाउंट भी खुलवाया जा सकता है।
  • इस योजना के अंतर्गत नियुन्तम ₹250 में अकाउंट खुलवाया जा सकता है।
  • सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत 1 वित्त वर्ष में नियुन्यम ₹250 का निवेश तथा अधिकतम ₹1.5 लाख रुपए का निवेश किया जा सकता है।
  • इस योजना के अंतर्गत 7.6% ब्याज दर निर्धारित की गई है।
  • सेक्शन 80C इनकम टैक्स अधिनियम के अंतर्गत इस योजना के अंतर्गत टैक्स छूट भी मिलती है।
  • इस योजना के माध्यम से मिलने वाला रिटर्न भी टैक्स फ्री है।
  • बेटी की उच्च शिक्षा के लिए भी सुकन्या समृद्धि योजना से 50% की रकम निकाली जा सकती है।
  • Sukanya Samriddhi Yojana 2021  बेटियों के लिए केंद्र सरकार की एक छोटी बचत योजना है |
  • इस योजना के अंतर्गत लाभार्थी राष्ट्रीयकृत बैंक ,पोस्ट ऑफिस ,एसबीआई ,आईसीआईसीआई ,पीएनबी ,एक्सिस बैंक ,एचडीएफसी , आदि इन सभी बैंको में अपनी बेटी के लिए खाता खुलवा सकते है

सुकन्या समृद्धि योजना के लिए अधिकृत बैंक

सुकन्या समृद्धि योजना खाते खोलने के लिए भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) द्वारा अधिकृत कुल 28 बैंक हैं। उपयोगकर्ता निम्नलिखित में से किसी भी बैंक में SSY खाता खोल सकते हैं और इस योजना का लाभ उठा सकते है ।

  • इलाहाबाद बैंक
  • भारतीय स्टेट बैंक (SBI)
  • ऐक्सिस बैंक
  • आंध्रा बैंक
  • बैंक ऑफ महाराष्ट्र (BOM)
  • बैंक ऑफ इंडिया (BOI)
  • कॉर्पोरेशन बैंक
  • सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया (CBI)
  • केनरा बैंक
  • देना बैंक
  • बैंक ऑफ बड़ौदा (BOB)
  • स्टेट बैंक ऑफ पटियाला (SBP)
  • स्टेट बैंक ऑफ मैसूर (SBM)
  • इंडियन ओवरसीज बैंक (IOB)
  • भारतीय बैंक
  • पंजाब नेशनल बैंक (PNB)
  • आईडीबीआई बैंक
  • आईसीआईसीआई बैंक
  • सिंडीकेट बैंक
  • स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर एंड जयपुर (SBBJ)
  • स्टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर (SBT)
  • ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स (OBC)
  • स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद (SBH)
  • पंजाब एंड सिंध बैंक (PSB)
  • यूनियन बैंक ऑफ इंडिया
  • यूको बैंक
  • यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया
  • विजय बैंक

PM Kanya Yojana 2021 के लाभ

  • इस योजना का लाभ देश की 10 से कम आयु की लड़कियों को प्रदान किया जायेगा ।
  • सुकन्या समृद्धि योजना के तहत, बालिकाओं के अभिभावक उनके लिए बचत खाता खोल सकते हैं। जब तक वह बालिका 10 वर्ष की नहीं हो जाती है ।
  • इस योजना के तहत चालू वित्त वर्ष के दौरान अधिकतम 1.5 लाख रुपये जमा किए जा सकते हैं।
  • PM Kanya Yojana 2021 के तहत आप अपनी बच्चियों के भविष्य को आसानी से सुरक्षित कर सकते है।
  • यह आपकी लड़की की शिक्षा या शादी में मदद करेगा।
  • इस योजना को आप किसी भी बैंक या डाकघर में आसानी से शुरू कर सकते हैं।
  • यह योजना लड़की और उनके माता-पिता / अभिभावक दोनों के लिए फायदेमंद है क्योंकि यह दोनों की मदद करता है।
  • अभिभावक या प्राकृतिक माता-पिता को केवल दो लड़कियों के लिए इस योजना के तहत खाता खोलने की अनुमति है ।
  • जमाकर्ता लड़की की ओर से खाता खोलने की तारीख से चौदह साल पूरा होने तक खाते में पैसा जमा कर सकता है।

SSY 2021 के दस्तावेज़ (पात्रता )

  • इस योजना के अंतर्गत खाता खुलवाने के लिए कन्या की आयु 10 वर्ष से कम होनी चाहिए |
  • आधार कार्ड
  • बच्चे और माता पिता की तस्वीर
  • बालिका जन्म प्रमाण पत्र
  • निवास प्रमाण
  • जमा कर्ता(माता -पिता या क़ानूनी अभिभावक ) यानि पैन कार्ड ,राशन कार्ड ,ड्राइविंग लाइसेंस

सुकन्या समृद्धि योजना में अकाउंट खुलवाने के नियम

सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत खाता बेटी के माता-पिता या फिर कानूनी अभिभावकों के द्वारा खुला या खुलवाया जा सकता है। इस खाते को बेटी के जन्म से 10 साल का होने तक खुलवाया जा सकता है। सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत एक बेटी के लिए केवल एक ही खाता खुलवाया जा सकता है तथा खाता खुलवा आते समय बेटी का बर्थ सर्टिफिकेट पोस्ट ऑफिस या बैंक में जमा करना होगा। इसी के साथ साथ अन्य महत्वपूर्ण दस्तावेज जैसे कि पहचान पत्र तथा पते का प्रमाण भी जमा करना होगा।

सुकन्या समृद्धि योजना की कुछ नियम व शर्तें

निवेश की शर्तें एवं नियम

  • खाता खुलवाने की आयु: सुकन्या समृद्धि खाता बालिका की 10 वर्ष की आयु होने से पहले अभिभावक द्वारा खोला जा सकता है।
  • खाते की संख्या: एक लड़की के लिए केवल एक ही खाता इस योजना के अंतर्गत खोला जा सकता है। इस योजना के अंतर्गत एक बेटी के लिए माता द्वारा अलग तथा पिता द्वारा अलग खाता ही नहीं संचालित किया जा सकता।
  • परिवार के खाताधारकों की संख्या: एक परिवार की केवल दो बेटियां ही इस योजना का लाभ उठा सकती हैं।
  • जुड़वा बेटियों की स्थिति में एक परिवार की खाताधारक की संख्या: यदि जुड़वा या ट्रिपलेट बेटियों का जन्म होता है तो उस स्थिति में 2 से अधिक खाते भी खोले जा सकते हैं।
  • खाते का संचालन: सुकन्या समृद्धि खाते को खाताधारक की 18 वर्ष की आयु होने तक खाता धारक के अभिभावक द्वारा संचालित किया जाता है।

न्यूनतम एवं अधिकतम राशि जमा करने के नियम व शर्तें

  • न्यूनतम खाता खोलने के लिए राशि: इस योजना के अंतर्गत न्यूनतम 250 रुपए में खाता खोला जा सकता है।
  • न्यूनतम प्रतिवर्ष निवेश: प्रत्येक वर्ष इस योजना के अंतर्गत लाभार्थी को 250 रुपए का निवेश करना होगा।
  • डिफॉल्ट की स्थिति: यदि खाताधारक द्वारा प्रतिवर्ष न्यूनतम 250 रुपए का निवेश नहीं किया गया तो इस स्थिति में खाते को डिफॉल्ट कर दिया जाएगा। यदि खाता डिफॉल्ट हो गया है तो इस स्थिति में खाते में 250 रुपए की न्यूनतम राशि का भुगतान एवं ₹50 की पेनल्टी का भुगतान करके खाते को पुनर्जीवित किया जा सकता है।
  • अधिकतम निवेश राशि: सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत अधिकतम ₹150000 तक की राशि का निवेश किया जा सकता है।
  • खाता खोलने के महत्वपूर्ण दस्तावेज: इस योजना के अंतर्गत खाता खोलने के लिए अभिभावक को form-1, बेटी का जन्म प्रमाण पत्र तथा अभिभावक का पैन कार्ड और आधार नंबर जमा करना होगा।
  • निवेश करने की अवधि: इस योजना के अंतर्गत खाता खोलने की तिथि से 15 साल तक निवेश किया जा सकता है।

परिपक्वता, कर लाभ एव ब्याज दरें से संबंधित नियम व शर्तें

  • परिपावकता आयु: सुकन्या समृद्धि खाता खुलने से 21 साल बाद या फिर बालिका के विवाह के समय 18 वर्ष की आयु होने के बाद परिपक्व हो जाएगा।
  • इंटरेस्ट रेट: सरकार द्वारा हर तिमाही आधार पर इंटरेस्ट रेट की अधिसूचना दी जाएगी। जनवरी 2021 से मार्च 2021 के लिए इस योजना के अंतर्गत इंटरेस्ट रेट 7.6% है।
  • ब्याज राशि: इस योजना के अंतर्गत ब्याज राशि वित्तीय वर्ष के अंत में खाते में जमा किया जाएगा। सुकन्या समृद्धि खाते को पोस्ट ऑफिस या फिर बैंक में खुलवाया जा सकता है।
  • कर लाभ: सेक्शन 80C के अंतर्गत इस योजना के अंतर्गत किया गया निवेश कर मुक्त है। इस योजना के अंतर्गत प्राप्त हुआ ब्याज तथा परिपक्वता राशि भी कर मुक्त है।

खाते की प्रीमेच्योर क्लोजर से संबंधित नियम व शर्ते

  • प्रीमेच्योर क्लोजर: सुकन्या समृद्धि खाते को समय से पहले (खाता खोलने के 5 साल बाद) बंद कराया जा सकता है।
  • खाता धारक की मृत्यु: यदि खाता धारक की मृत्यु हो जाती है तो इस स्थिति में यह खाता बंद करवाया जा सकता है।
  • जानलेवा रोग की स्थिति: यदि खाताधारक को किसी प्रकार का जानलेवा रोग हो जाता है तो इस स्थिति में भी यह खाता बंद करवाया जा सकता है।
  • अभिभावक की मृत्यु: खाताधारक के अभिभावक (जो खाते का संचालन करता है) की मृत्यु की स्थिति में भी यह खाता बंद करवाया जा सकता है।

सुकन्या समृद्धि खाते से पैसे निकालने के नियम व शर्तें

  • निकासी करने की स्थिति: सुकन्या समृद्धि योजना खाते से पिछले वित्तीय वर्ष के अंत में उपलब्ध शेष राशि का अधिकतम 50% तक की निकासी की जा सकती है। यह निकासी बालिका की शिक्षा के लिए की जा सकती है।
  • निकासी करने के लिए आयु: यह निकासी बालिका की 18 वर्ष की आयु पूरी होने पर या फिर दसवीं कक्षा उत्तीर्ण करने के बाद (दोनों में से जो भी पहले हो) की जा सकती है।
  • निकासी का प्रकार: खाते से निकासी एक साथ की जा सकती है या फिर किस्तों में भी की जा सकती है।

Sukanya Samriddhi Yojana 2021 खाता खोलने का आवेदन फॉर्म

  • जो इच्छुक लाभार्थी इस योजन के अंतर्गत बचत खाता खोलने के लिए  आवेदन करना चाहते है तो उन्हें सबसे पहले सुकन्या समृद्धि योजना अकॉउंट ओपनिंग फॉर्म को डाउनलोड करना होगा |
  • इसके बाद सभी आवश्यक जानकारी के साथ आवेदन फॉर्म भरना होगा |सभी जानकारी भरने के बाद फ्रॉम के साथ अपने सभ ज़रूरी दस्तावेज़ों को अटैच करना होगा |
  • फिर वांछित बैंक और पोस्ट ऑफिस में आवेदन फॉर्म और दस्तावेज़ों को राशि के साथ जमा करना होगा

सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत अकाउंट बैलेंस चेक करने की प्रक्रिया

सुकन्या समृद्धि योजना को भारत सरकार द्वारा आरंभ किया गया था। जिसके अंतर्गत निवेश पर 7.6 प्रतिशत ब्याज प्रदान किया जाता है। सुकन्या समृद्धि योजना की पासबुक ऑनलाइन तथा ऑफलाइन दोनों माध्यमों से एक्सेस की जा सकती है। आप सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत अपना अकाउंट बैलेंस बहुत आसानी से चेक कर सकते हैं। सुकन्या समृद्धि योजना अकाउंट इस समय लगभग 25 से भी अधिक बैंक प्रदान कर रहे हैं। आपको इन बैंक में जाकर अपना खाता खुलवाना होगा। इसके पश्चात आपको बैंक द्वारा पासबुक प्रदान की जाएगी। आप पासबुक के माध्यम से सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत अपना अकाउंट बैलेंस चेक कर सकते हैं ।यह अकाउंट बैलेंस डिजिटल या फिर अकाउंट स्टेटमेंट के माध्यम से चेक किया जा सकता है। कीअकाउंट बैलेंस चेक करने के लिए आपको निम्नलिखित प्रक्रिया को फॉलो करना होगा।

  • सर्वप्रथम आपको अपने बैंक में आपको लॉगइन क्रैडेंशियल्स प्रदान करने का अनुरोध करना होगा।
  • यह लॉगइन क्रैडेंशियल्स सभी बैंकों द्वारा प्रदान नहीं किए जाते हैं। केवल कुछ बैंक की यह सुविधा प्रदान करते हैं।
  • लॉगइन क्रैडेंशियल्स प्राप्त करने के बाद आपको बैंक के इंटरनेट बैंकिंग पोर्टल पर लॉग इन करना होगा।
  • इसके पश्चात आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • अब आपको कंफर्म बैलेंस के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • जैसे ही आप कंफर्म बैलेंस के विकल्प पर क्लिक करेंगे आपके सामने सुकन्या समृद्धि अकाउंट की राशि खुलकर आ जाएगी।
  • केवल इसी माध्यम से सुकन्या समृद्धि अकाउंट बैलेंस चेक किया जा सकता है।

डिफॉल्ट खाते को रिवाइव करने की प्रक्रिया

जैसे कि आप सभी लोग जानते हैं सुकन्या समृद्धि खाते में न्यूनतम ₹250 रुपए का निवेश करना अनिवार्य है। यदि खाताधारक द्वारा न्यूनतम ₹250 का निवेश नहीं किया जाता है तो इस स्थिति में खाते को डिफॉल्टर माना जाता है। खाता डिफॉल्ट होने के बाद खाते को रिवाइव किया जा सकता है। खाता रिवाईव खाता खुलवाने की तिथि से 15 साल तक किया जा सकता है। खाता रिवाइव करवाने के लिए आपको उन सभी सालों का जिनमें आपने न्यूनतम निवेश नहीं किया है न्यूनतम निवेश जो कि ₹250 है करना होगा और इसके साथ ₹50 प्रति वर्ष पेनल्टी का भुगतान करना होगा। यह भुगतान करने के बाद आपका खाता रिवाइव कर दिया जाएगा।

सुकन्या समृद्धि योजना ब्याज तय करने की प्रक्रिया

Sukanya Samriddhi Yojana के अंतर्गत खाते को पोस्ट ऑफिस या फिर बैंक में खुलवाया जा सकता है। इस योजना के अंतर्गत निवेश पर 7.6% के ब्याज का भुगतान किया जाता है। इस योजना के अंतर्गत ब्याज की गणना करने का तरीका सरकार द्वारा फिक्स किया गया है। सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत 5वें दिन की क्लोजिंग और महीने के बीच खाते में सबसे कम बैलेंस पर ब्याज कैलकुलेट किया जाता है। सरकार द्वारा प्रतिवर्ष ब्याज की दरें बदली जाती हैं एवं ब्याज की रकम साल के अंत में लाभार्थी के खाते में जमा की जाती है। इस योजना के अंतर्गत दिए जाने वाले डिपॉजिट पर सेक्शन 80सी के अंतर्गत डिडक्शन भी मिलता है।

Quick Links

Leave a Comment