राजस्थान ग्रामीण पर्यटन योजना लागू हुई, ग्रामीण क्षेत्रों में पर्यटन एवं रोजगार को मिलेगा बढ़ावा

Rajasthan Gramin Paryatan Yojana:- राजस्थान सरकार द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को रोजगार के नए अवसर उपलब्ध कराने हेतु और उनके जीवन स्तर को बेहतर बनाने के लिए नई नई योजनाओं की शुरुआत की जाती रहती है। इस बार भी राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जी के द्वारा हाल ही में ग्रामीण लोगों के लिए एक नई योजना को शुरू किया गया है। जिसका नाम राजस्थान ग्रामीण पर्यटन योजना है। इस योजना के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों में पर्यटन को बढ़ावा दिया जाएगा। जिससे राज्य में रोजगार के अवसर पैदा होगे। Rajasthan Rural Tourism Yojana के तहत ग्रामीण क्षेत्रों में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए गेस्ट हाउस बनवाने के लिए कई नियमों में सरकार द्वारा छूट प्रदान की जाएगी। अगर आप Rajasthan Gramin Paryatan Yojana 2024 से जुड़ी अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आपको यह आर्टिकल ध्यानपूर्वक अंत तक पढ़ना होगा।

Rajasthan Gramin Paryatan Yojana 2023

Rajasthan Gramin Paryatan Yojana 2024

राजस्थान सरकार द्वारा राजस्थान ग्रामीण पर्यटन योजना को शुरू किया गया है। इस योजना के माध्यम से ग्रामीण संस्कृति को बढ़ावा एवं संरक्षण प्रदान किया जाएगा। जिसके लिए ग्रामीण क्षेत्र में पर्यटन इकाइयां स्थापित की जाएगी। ग्रामीण परिवारों को राजस्थान ग्रामीण पर्यटन योजना के तहत रोजगार प्रदान करने हेतु ग्रामीण पर्यटन यूनिट, ग्रामीण गेस्ट हाउस, कृषि पर्यटन यूनिट्स, कैंपिंग साइट और कैरावन पार्क की स्थापना के लिए सरकार द्वारा प्रोत्साहन प्रदान किया जाएगा। राजस्थान ग्रामीण पर्यटन योजना के अंतर्गत इकाई की स्थापना करने के लिए कुछ नियमों में भी बदलाव किए गए हैं जैसे कि ग्रामीण क्षेत्र में इकाई की स्थापना करने के लिए किसी भी प्रकार की स्टैंप ड्यूटी नहीं भरनी होगी।

Rajasthan Gramin Paryatan Yojana के माध्यम से राज्य में ग्रामीण हस्तशिल्प इकाइयों को बढ़ावा दिया जाएगा। इस योजना के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों के नागरिकों को अपने ही क्षेत्र में रोजगार मिल सकेगा। जिससे उनकी आर्थिक स्थिति में सुधार होगा। साथ ही देश और विदेश के पर्यटक ग्रामीण क्षेत्र में घूमने के लिए आएंगे। जिससे राज्य के ग्रामीण कल्चर को भी बढ़ावा मिलेगा। सरकार द्वारा ग्रामीण पर्यटन योजना को पूरे राज्य में लागू कर दिया गया है। जिसका संचालन राजस्थान पर्यटन विभाग द्वारा किया जाएगा। 

सहकार ग्राम आवास योजना

राजस्थान ग्रामीण पर्यटन योजना के बारे में जानकारी

योजना का नाम  Rajasthan Gramin Paryatan Yojana
शुरू की गई  राजस्थान सरकार द्वारा
विभाग  पर्यटन विभाग राजस्थान
लाभार्थी  राज्य के नागरिक
उद्देश्यग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार के नए अवसर उत्पन्न करना
राज्य  राजस्थान
साल  2024
आवेदन प्रक्रिया  ऑनलाइन/ऑफलाइन
अधिकारिक वेबसाइट  https://www.tourism.rajasthan.gov.in/

Rajasthan Rural Tourism Yojana का उद्देश्य

राजस्थान सरकार द्वारा ग्रामीण पर्यटन योजना को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार के नए अवसर उत्पन्न करने हेतु ग्रामीण क्षेत्रों में पर्यटन इकाई स्थापित करने के लिए प्रोत्साहन और हस्तशिल्प का संरक्षण करना है। ताकि राज्य मे गांव के जीवन, कला, संस्कृति, विरासत को प्रदर्शित करने वाली पर्यटन इकाई को बढ़ावा दिया जा सके। साथ ही ग्रामीण इलाकों में इस योजना के माध्यम से स्थानीय लोगों के लिए रोजगार के अवसर उपलब्ध हो सकेंगे। जिससे उन्हें रोजगार प्राप्त करने हेतु किसी अन्य क्षेत्र में नहीं जाना पड़ेगा।

राजस्थान रोडवेज में बिना परीक्षा परिचालक भर्ती

राजस्थान ग्रामीण पर्यटन योजना के अंतर्गत पर्यटक को दी जाने वाली सुविधा

  • गेस्ट हाउस में रुकने की सुविधा
  • विदेशी पर्यटकों की जानकारी रखी जाएगी
  • पीने का पानी उपलब्ध कराना
  • पार्किंग की सुविधा प्रदान करना
  • इमरजेंसी सुविधा देना
  • साफ-सफाई सहायता प्रदान करना

Rajasthan Gramin Paryatan Yojana के तहत दी जाने वाली छूट

Rajasthan Gramin Paryatan Yojana के तहत राज्य सरकार द्वारा ग्रामीण इकाई की स्थापना करने के लिए कई प्रकार की छूट प्रदान की जाएगी। जिनका विवरण कुछ इस प्रकार है।

  • ग्रामीण पर्यटन इकाई की स्थापना करने के लिए इस योजना के तहत स्टाम्प ड्यूटी में 100% की छूट प्रदान की जाएगी।
  • इसके लिए प्रारंभ में केवल 25% स्टाम्प ड्यूटी देय होगी।
  • पर्यटन इकाई शुरू होने का प्रमाण पत्र प्रस्तुत करने पर पुनर्भरण की सुविधा भी मिलेगी।
  • देय एवं जमा SGST का 10 वर्षों तक 100% पुनर्भरण की व्यवस्था प्राप्त होगी।
  • मुख्यमंत्री लघु उद्योग प्रोत्साहन योजना के अंतर्गत 25 लाख रुपए तक ऋण का अनुदान मिलेगा।
  • ग्रामीण गेस्ट हाउस की स्थापना करने के लिए आपको गेस्ट हाउस बिल्डिंग के प्लान अनुमोदन के लिए अप्रूवल लेने की जरूरत नहीं होगी।   
  • वन विभाग के अधीन क्षेत्र में राजस्थान इको टूरिज्म पॉलिसी 2021 के प्रावधानों के अनुसार किया जाएगा।
  • राज्य के स्थानीय कलाकारों और हस्तशिल्प योर प्रोजेक्ट को अनुमोदन एवं देय में प्राथमिकता प्राप्त होगी।

ग्रामीण पर्यटन इकाइयों की स्थापना एवं संचालन के लिए मुख्य प्रावधान

  • Rajasthan Gramin Paryatan Yojana के तहत जिन गेस्ट हाउस को विकसित किया जाएगा। उसमें 6 से 10 कमरे होने चाहिए।
  • इसके अलावा पर्यटकों के लिए गेस्ट हाउस में खाने की व्यवस्था के लिए FSSAI फूड लाइसेंस की आवश्यकता होगी जिसे आवेदक को अपने स्तर से प्राप्त करना होगा।
  • कृषि पर्यटन इकाई हेतु ग्रामीण पर्यटन योजना के अंतर्गत न्यूनतम 2000 वर्ग मीटर की अनुमति होगी।
  • Rajasthan Rural Tourism Yojana के तहत कैंपिंग साइट कम से कम 1000 स्क्वायर मीटर से लेकर अधिकतम 1 हेक्टेयर भूमि में बना  सकते हैं।
  • कैरावन पार्क के लिए कम से कम 1000 स्क्वायर मीटर और अधिकतम 1 हेक्टेयर कृषि भूमि होनी चाहिए। इसके अलावा पर्यटकों के लिए वाहन पार्किंग की सुविधा भी होनी चाहिए।
  • आबादी क्षेत्रों में ग्रामीण गेस्ट हाउस हेतु न्यूनतम एवं अधिकतम भूखंड क्षेत्र निर्धारित नहीं होगा।
  • राजस्थान ग्रामीण पर्यटन इकाई की स्थापना करने के लिए 15 फीट चौड़ी सड़क पर अनुमति प्राप्त होगी।
  • इस योजना के तहत ग्रामीण पर्यटन इकाइयों के लिए भू संपरिवर्तन एवं बिल्डिंग प्लान अनुमोदन की आवश्यकता नहीं होगी।   

राजस्थान फव्वारा संयंत्र सब्सिडी योजना

Rajasthan Rural Tourism Yojana के लाभ एवं विशेषताएं

  • राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जी के द्वारा राजस्थान ग्रामीण पर्यटन योजना को शुरू किया गया है।
  • इस योजना के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्र में स्थानीय लोगों के लिए नए रोजगार के अवसर उत्पन्न होंगे।
  • राज्य सरकार द्वारा ग्रामीण पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए लोगों को प्रोत्साहित किया जाएगा।
  • Rajasthan Rural Tourism Yojana के माध्यम से हस्तशिल्प इकाइयों को प्रोत्साहन मिलेगा।
  • इस योजना के संचालन हेतु ग्रामीण गेस्ट हाउस, कृषि पर्यटन इकाई, कैंपिंग साइट, कैरावन पार्क की स्थापना की जाएगी।
  • किसी भी प्रकार की इकाई की स्थापना करने के लिए आवेदक को बिल्डिंग प्लान अप्रूवल लेने की आवश्यकता नहीं होगी।
  • साथ ही ग्रामीण पर्यटन योजना राजस्थान के माध्यम से स्टाम्प ड्यूटी में 100% की छूट प्रदान की जाएगी।
  • राजस्थान में ग्रामीण कल्चर को बढ़ावा मिलेगा जिससे देश-विदेश के पर्यटक आकर्षित होकर ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को रोजगार मिलेगा।
  • यह योजना राज्य में ग्रामीण प्रणाली को बढ़ावा देगी।

राजस्थान ग्रामीण पर्यटन योजना के लिए पात्रता

  • राजस्थान ग्रामीण पर्यटन योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए आवेदक को राजस्थान का मूल निवासी होना चाहिए।
  • आवेदक को किसी भी तरह की इकाई स्थापित करने के लिए कम से कम 1000 स्क्वायर मीटर कृषि भूमि और अधिकतम 2 हेक्टेयर की कृषि भूमि की आवश्यकता होगी।
  • राज्य के सभी वर्ग के नागरिक इस योजना का लाभ लेने के लिए पात्र होंगे।

Rajasthan Gramin Paryatan Yojana के लिए आवश्यक दस्तावेज

  • आधार कार्ड
  • राशन कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • पैन कार्ड
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • मोबाइल नंबर
  • बैंक खाता विवरण

राजस्थान ग्रामीण पर्यटन योजना के लिए आवेदन कैसे करें?

राज्य के जो भी इच्छुक नागरिक राजस्थान ग्रामीण पर्यटन योजना के तहत ऑनलाइन या ऑफलाइन आवेदन करना चाहते हैं तो उन्हें भी थोड़ा इंतजार करना होगा। क्योंकि फिलहाल अभी सरकार द्वारा इस योजना के तहत आवेदन करने के लिए कोई भी जानकारी सार्वजनिक नही की गई है। जैसे ही सरकार द्वारा इस योजना के तहत किसी प्रकार की इकाई की स्थापना करने हेतु आवेदन प्रक्रिया से संबंधित जानकारी उपलब्ध की जाएगी। तो हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से सूचित कर देंगे ताकि आप इस योजना के तहत आवेदन कर लाभ प्राप्त कर सके। 

Rajasthan Gramin Paryatan Yojana FAQs

राजस्थान ग्रामीण पर्यटन योजना की शुरुआत किसने की?

राजस्थान ग्रामीण पर्यटन योजना की शुरुआत मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जी के द्वारा की गई है।

Rajasthan Rural Tourism Yojana का लाभ किसे मिलेगा?

राजस्थान ग्रामीण पर्यटन योजना का लाभ राज्य के ग्रामीण लोगों को मिलेगा।

राजस्थान ग्रामीण पर्यटन योजना का उद्देश्य क्या है?

Rajasthan Gramin Paryatan Yojana का उद्देश्य ग्रामीण संस्कृति व स्थानीय रोजगार को बढ़ावा देना है। 

Leave a Comment