प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना 2022: ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया, लाभ व विशेषता

Pradhanmantri Gati Shakti Yojana ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया और पीएम गति शक्ति योजना में लॉगिन करे एवं आवेदन की स्थिति, पात्रता व लाभ जाने | रोज़गार के अवसर में वृद्धि करने के लिये सरकार द्वारा निरंतर प्रियास किया जाता है। जिसके लिए सरकार द्वारा विभिन्न प्रकार की योजने आरम्भ की जाति है। हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी समय समय पर विभिन्न प्रकार की योजनाएँ आरम्भ करते है जिससे की देश का कोई भी नागरिक बेरोज़गार ना रहे। आज हम आपको ऐसी ही एक योजना से सम्बंधित जानकारी प्रदंन कारने जा रहे है जिसका नाम प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना है। इस योजना के मांध्यम से देश के युवाओं को रोज़गार सरजीत किया जाएगा। आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से इस योजना से सम्बंधित सम्पूर्ण जानकारी प्रदान करेंगे। जैसे कि प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना क्या है?, इसका उद्देश्य, लाभ, विशेषताएँ, पात्रता, महत्वपूर्ण दस्तावेज, आवेदन प्रक्रिया आदि। तो दोस्तों यदि आप Pradhanmantri Gati Shakti Yojana का लाभ उठाना चाहते है तो आपको हमारे इस लेख को अंत तक पढ़ना होगा।

Table of Contents

Pradhanmantri Gati Shakti Yojana 2022

15 अगस्त को देश से 75वे स्वतंत्र दिवस के अवसर पर हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा देश को सम्बोधित किया गया। जिसमें मोदी जी के द्वारा एक नयी योजना का आरम्भ करने की घोषणा की गई। इस योजना का नाम प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना है। इस योजना के मांध्यम से देश के युवाओं को रोज़गार के अवसर प्रदान किए जाएँगे। प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना का कुल बजट 100 लाख करोड़ निर्धारित किया गया है। इस योजना के माध्यम से इन्फ़्रस्ट्रक्चर का सर्वांगीण विकास भी सुनिश्चहित किया जा सकेगा। इसके अलावा Pradhanmantri Gati Shakti Yojana के अंतर्गत लोकल मैन्युफ़ैक्चरर भी वर्ल्ड लेवल पर प्रतिस्पर्धी बन सकेंगे। भविष में नए एकनामिक जोन भी इस योजना के अंतर्गत विकसित किए जाएँगे।

  • Pradhanmantri Gati Shakti Yojana के माध्यम से आधुनिक इन्फ़्रस्ट्रक्चर के साथ इन्फ़्रस्ट्रक्चर निर्माण में होलिस्टिक अप्रोच भी अपनाई जाएगी। प्रधानमंत्री जी के द्वारा यह भी जानकारी प्रदान की गई है कि आने वाले समय में इस योजना का मास्टर प्लान भी पेश किया जाएगा।
  • इस योजना के माध्यम से हॉलिस्टिक इन्फ्रास्ट्रक्चर की नींव रखी जाएगी। यह योजना उद्योगों की गति को बढ़ाने में भी कारगर साबित होगी। इस योजना के माध्यम से देश की अर्थव्यवस्था को भी गति मिलेगी। इसके अलावा देश में मौजूदा ट्रांसपोर्ट के संसाधनों में आपसी तालमेल का भी अभाव है। इस योजना के माध्यम से इस गतिरोध को भी समाप्त किया जाएगा।

आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना

प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना

गति शक्ति योजना 2022  के तहत हरियाणा को मिली 900 करोड़ रुपए की मंजूरी

हरियाणा के मुख्य सचिव संजीव कौशल जी ने 4 अगस्त 2022 को इस बात की सूचना है कि केंद्र सरकार ने Pradhanmantri Gati Shakti Yojana 2022 के तहत राज्य के लिए 900 करोड रुपए की मंजूरी दी है। यह सूचना उन्होंने इस योजना के क्रियान्वयन की समीक्षा के लिए गठित सचिवों के अधिकार प्राप्त समूह की बैठक की अध्यक्षता करते दौरान दी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने पिछले वर्ष में पीएम गतिशील राष्ट्रीय मास्टर प्लान को देश के विभिन्न आर्थिक क्षेत्र को आपसी संपर्क के लिए सुविधाएं उपलब्ध करवाने हेतु शुरू किया था। कौशल जी ने बताया है कि इस मिशन से महत्वपूर्ण सड़कों और रेल परियोजनाओं के माध्यम से हरियाणा के बुनियादी ढांचे को मजबूती मिलेगी। इसके अलावा बैठक में यह कहा गया है कि इस योजना के तहत अबतक 1100 करोड़ के प्रस्ताव प्राप्त हुए हैं। यह सभी प्रस्ताव विशेष रूप से लॉजिस्टिक बुनियादी ढांचे और परिवहन से जुड़े हैं। जल्द ही इन सभी प्रस्तावों को स्वीकृति के लिए केंद्र सरकार के पास भेजा जाएगा।

 प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी योजना

यूपी में प्रत्येक गाटे को प्रदान किया जाएगा आलपिन नंबर

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा राजस्व से जुड़े विवादों को कम करने एवं बड़ी अवस्थापना परियोजनाओं में शीघ्रता से भूमि चिन्हित करने के उद्देश्य से प्रत्येक गाटे की जियो टैगिंग करने का निर्णय लिया गया है। यह जियो टैगिंग प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना के माध्यम से की जाएगी। प्रत्येक गाटे को एक यूनीक लैंड पार्सल आईडेंटिफिकेशन नंबर (अल्पीन) प्रदान किया जाएगा। जो की 14 अंकों का अल्फान्यूमैरिक कोड होगा। इस आलपिन नंबर के माध्यम से गाटे की पूरी भौगोलिक स्थिति प्रदर्शित हो जाएगी। उत्तर प्रदेश में लगभग 7.5 करोड़ गाटे हैं। सरकार द्वारा इस योजना के कार्यान्वयन के लिए 5 वर्षों में 324 करोड रुपए खर्च किए जाएंगे। यह जियो टैगिंग भूमि से संबंधित मुकदमे का बोझ कम करने में कारगर साबित होगी। इसके अलावा इस योजना के माध्यम से बुनियादी ढांचे के विकास की बड़ी परियोजनाओं के लिए भूमि चिन्हित करने में आसानी होगी।

  • इस योजना के पहले चरण में गांव की सीमा रेखा को भौगोलिक सूचना प्रणाली के जरिए अक्षांश देशांतर युक्त किया जाएगा। Pradhanmantri Gati Shakti Yojana के दूसरे चरण के अंतर्गत गांव के अंदर की भूखंडों को जीआईएस युक्त किया जाएगा। जिसके लिए पहले 5 गांव में सर्वेक्षण किया जाएगा।
  • इसके अलावा गांव की सीमा रेखा को तकनीकी संस्था द्वारा मानचित्र पर निश्चित किया जाएगा। इसके बाद जीआईएस मैपिंग के माध्यम से गांव की सीमा रेखा का बाउंड्री पिलारो को तय किया जाएगा। इसके बाद गांव के प्रत्येक गाटे का अक्षांश देशांतर तय किया जाएगा। इसके आधार पर प्रत्येक गाटे का आलपीन नंबर तैयार किया जाएगा।

Key Highlights Of Pradhanmantri Gati Shakti Yojana 2022

योजना का नामप्रधानमंत्री गति शक्ति योजना
किसने आरंभ कीप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी
लाभार्थीभारत के नागरिक
उद्देश्यरोजगार के अवसर उत्पन्न करना
आधिकारिक वेबसाइटजल्द लॉन्च की जाएगी
साल2022
बजट100 लाख करोड़

प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना के लिए बजट 2022 -23 में किए गए महत्वपूर्ण एलान

Pradhanmantri Gati Shakti Yojana को देश के इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट के विकास को जोर देने के उद्देश्य से आरंभ किया गया। यह प्रोजेक्ट 107 लाख करोड़ रुपए का है। जिसके माध्यम से इंफ्रास्ट्रक्चर को एक नया रूप प्रदान किया जाएगा। इस योजना के अंतर्गत रेल और सड़क सहित कुल 16 मंत्रालयों का डिजिटल प्लेटफॉर्म पर लाया जाएगा। जिससे कि यह सभी मंत्रालय बड़ी परियोजनाओं के लिए सामान्य स्थापित कर सकें। इस योजना के माध्यम से परियोजना के संचालन में आने वाली विभिन्न विभागीय रुकावट को दूर किया जा सकेगा।

  • वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जी के द्वारा यह घोषणा की गई है कि आने वाले 3 सालों में इस योजना के अंतर्गत 400 नई वंदे भारत ट्रेन बनाई जाएंगी। इसके अलावा 100 पीएम गति शक्ति कार्गो टर्मिनल को भी तैयार किया जाएगा।
  • पीएम गति शक्ति मास्टर प्लान 2022-23 तैयार किया जाएगा जिससे कि संपूर्ण देश में सामानों और लॉजिस्टिक की आवाजाही तेजी से हो सके। इसके अलावा इस योजना के अंतर्गत नेशनल हाईवे के नेटवर्क को कुल 25000 किलोमीटर और बढ़ाया जाएगा। वर्ष 2022-23 से इसके लिए 8 नए रोपवे को ऑर्डर किया गया है। जिसका आर्डर पीपीपी मॉडल पर होगा।
  • छोटे किसान एवं छोटे व्यापारी के लिए भी इस योजना के अंतर्गत लॉजिस्टिक सुविधा को बेहतर बनाया जाएगा। इसके अलावा देश के सप्लाई चेन के नेटवर्क को बेहतर तरीके से संचालित किया जा सकेगा।
  • सरकार द्वारा वन प्रोजेक्ट और वन सिस्टम पर भी काम किया जाएगा। जिससे कि देश के व्यापारियों को लॉजिस्टिक को लाने और ले जाने में काफी आसानी होगी।

प्रधानमंत्री रोजगार प्रोत्साहन योजना 

दूसरी जोनल बैठक का कियाआयोजन

जैसे कि आप सभी लोग जानते हैं पीएम गति शक्ति योजना के माध्यम से 16 मंत्रालयों को जोड़ने के लिए डिजिटल प्लेटफॉर्म तैयार किया जा रहा है। इस प्लेटफार्म के माध्यम से सभी विभाग एक-दूसरे के कामों पर नजर रख सकेंगे। जिससे कि परियोजनाएं समय से पूरी हो सकेंगी एवं उनकी लागत में भी कमी आएगी। विभिन्न विभागों के बीच तालमेल न होने के कारण योजना के कार्यान्वयन में देरी होती है। अब इस योजना के कारण इस समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा। प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना की पहली बैठक गुजरात में आयोजित की गई थी। इस योजना की दूसरी बैठक 3 दिसंबर को लखनऊ में आयोजित की गई।

इस योजना को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा 15 अगस्त को घोषित किया गया था एवं 13 अक्टूबर को इस योजना को लांच किया गया। इस योजना की दूसरी जोनल कॉन्फ्रेंस में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी शामिल हुए। इसके अलावा उत्तर प्रदेश के औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना एवं राज्य मंत्री धर्मवीर प्रजापति भी बैठक में उपस्थित थे। इसके अलावा केंद्रीय संचार और रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव वर्चुअल माध्यम से इस कॉन्फ्रेंस से जुड़े। इस जोनल कॉन्फ्रेंस का उद्घाटन उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के द्वारा किया गया।

Pradhanmantri Gati Shakti Yojana की लॉन्चिंग

13 अक्टूबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना का शुभारंभ किया गया है। इस योजना के माध्यम से 16 मंत्रालय को डिजिटल मंच के माध्यम से जोड़ा जाएगा। इस योजना के माध्यम से विभिन्न मंत्रालय द्वारा चलाई जा रही परियोजनाओं की निगरानी भी की जाएगी। जिससे कि उन्हें बेहतर ढंग से संचालित किया जा सके। प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना की लॉन्चिंग के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा कहा गया कि 21वीं सदी का भारत सरकारी व्यवस्था की पुरानी सोच को पीछे छोड़कर आगे बढ़ रहा है। इस योजना के माध्यम से विकास को गति मिलेगी एवं हर काम समय से हो सकेगा। प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना के माध्यम से अगली पीढ़ी के इंफ्रास्ट्रक्चर और मल्टीमॉडल कनेक्टिविटी को भी शक्ति मिलेगी।

इसके अलावा इंफ्रास्ट्रक्चर से जुड़ी सरकारी नीतियों में प्लानिंग से लेकर एजुकेशन तक यह योजना गति देगी। इस योजना के माध्यम से यह सुनिश्चित किया जा सकेगा की इंफ्रास्ट्रक्चर की कमी के चलते समय और पैसे की बर्बादी ना हो। 16 मंत्रालय की परियोजनाओं की मॉनिटरिंग इस योजना के माध्यम से हो सकेगी। इसके अलावा इस योजना के अंतर्गत 16 मंत्रालयों और विभागों की उन सभी परियोजनाओं को ज्योग्राफिक इनफार्मेशन सिस्टम मोड में डाल दिया गया है जिन्हें सन 2024-25 तक पूरा किया जाना है।

प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना का शुभारंभ

देश की अर्थव्यवस्था को सुधारने के उद्देश्य से 15 अगस्त को हमारे देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना आरंभ करने की घोषणा की गई थी। इस योजना के माध्यम से 100 लाख करोड़ रुपए के निवेश किया जाएगा। जिसके माध्यम से देश में रोजगार के अवसरों मैं बढ़ोतरी हो सकेगी। प्रधानमंत्री जी के द्वारा यह योजना 13 अक्टूबर को आरंभ की जाएगी। इस योजना के माध्यम से इंफ्रास्ट्रक्चर का सर्वागीर्ण विकास भी सुनिश्चित किया जाएगा। इसके अलावा इस योजना के माध्यम से लोकल मैन्युफैक्चर को भी विश्व स्तर पर प्रतिस्पर्धी बनाया जाएगा। इस योजना के माध्यम से भविष्य में नए आर्थिक जोन भी विकसित किए जाएंगे। यह योजना हॉलिस्टिक इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार करने में भी कारगर साबित होगी।

इस योजना के माध्यम से परिवहन साधनों में भी तालमेल स्थापित किया जाएगा। खास तौर पर लोकल मैन्युफैक्चरर इस योजना का लाभ प्राप्त कर सकेंगे। इसके अलावा एमएसएमई सेक्टर का भी इस योजना के माध्यम से विकास हो सकेगा। यातायात के संसाधनों को सुलभ बनाने के लिए इंफ्रास्ट्रक्चर भी इस योजना के माध्यम से विकसित किया जाएगा। इस योजना के अंतर्गत रेलवे, सड़क और राजमार्ग, पेट्रोलियम और गैस, बिजली, दूरसंचार आदि सहित 16 विभागों को शामिल किया गया है। इन सभी विभागों के उच्च अधिकारियों के नेटवर्क प्लानिंग ग्रुप भी गठित किया जाएगा।

प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना का कार्यान्वयन

  • प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना के अंतर्गत इंफ्रास्ट्रक्चर तथा कनेक्टिविटी से जुड़े मंत्रालयों को एक साथ लाया जाएगा।
  • इस योजना के अंतर्गत ज्योग्राफिक इनफॉरमेशन सिस्टम आधारित प्लानिंग, रूट प्लानिंग, मॉनिटरिंग और सैटेलाइट तस्वीरों जैसी टेक्नोलॉजी मंत्रालय को दी जाएगी।
  • प्रत्येक मंत्रालय को लॉगिन आईडी प्रदान की जाएगी जिससे कि वह अपना डाटा अपडेट कर सकेंगे।
  • इस डाटा को एक प्लेटफार्म पर उपलब्ध करवाया जाएगा।
  • इस प्लेटफार्म के माध्यम से प्रत्येक मंत्रालय एक दूसरे के काम पर नजर रख सकेगा।
  • जिससे कि कलेक्टिव रिस्पांसिबिलिटी में बढ़ोतरी होगी।

प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना का उद्देश्य

Pradhanmantri Gati Shakti Yojana 2022 का मुख्य उद्देश्य युवाओं के लिए रोजगार के अवसर उत्पन्न करना है। यह योजना देश की अर्थव्यवस्था को सुधारने में भी कारगर साबित होगी। इसी के साथ देश में बेरोजगारी दर में भी गिरावट आएगी। इसके अलावा इस योजना के माध्यम से होलिस्टिक इंफ्रास्ट्रक्चर की भी नींव रखी जाएगी जिससे कि रोजगार को गति मिलेगी। इस योजना के माध्यम से लोकल मैन्युफैक्चरर्स को वर्ल्ड लेवल पर प्रतिस्पर्धी बनाया जा सकेगा। जिससे कि देश में आयात बढ़ेगा एवं उद्योगों का विकास होगा। उद्योगों का विकास करने के लिए इस योजना के माध्यम से नए इकोनामिक जोन भी विकसित किए जाएंगे।

प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना के अंतर्गत किए जाने वाले कार्य

  • देश में सन 2024-25 तक 11 इंडस्ट्रियल कॉरिडोर नेशनल इंडस्ट्रियल कॉरिडोर डेवलपमेंट प्रोग्राम के अंतर्गत बनाए जाने की योजना।
  • डेडीकेटेड फ्रेट कॉरिडोर के निर्माण में तेजी लाने की योजना।
  • रेलवे की कार्गो हैंडलिंग क्षमता को 1600 मैट्रिक टन करने की योजना जो कि वर्तमान में 1200 मेट्रिक टन है।
  • NHAI द्वारा संचालित किए जाने वाले हाईवे का देश में 1 लाख किमी का नेटवर्क है। इस नेटवर्क को सन 2024-25 तक बढ़ाकर 2 लाख किमी करने की योजना।
  • उत्तर प्रदेश एवं तमिलनाडु में 20 हजार करोड रुपए के निवेश से दो डिफेंस कॉरिडोर बनाए जाने की योजना। जिससे कि देश में 1.7 लाख करोड़ रुपए के डिफेंस उपकरणों का उत्पादन हो सकेगा। जिसका बड़ा हिस्सा निर्यात भी किया जाएगा।
  • गंगा नदी में 29 एमएमटी की क्षमता का एवं अन्य नदियों में 95 एमएमटी की क्षमता का दुलाई प्रोजेक्ट आरंभ करने की योजना।
  • दूरसंचार विभाग द्वारा 35 लाख किमी का ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क 2024-25 तक बिछाने की योजना।

प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना के लाभ तथा विशेषताएं

  • 75वे स्वतंत्र दिवस के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना का आरंभ करने की घोषणा की गई है।
  • इस योजना के माध्यम से युवाओं को रोजगार के अवसर प्रदान किए जाएंगे।
  • इस योजना का कुल बजट 100 लाख करोड़ निर्धारित किया गया है।
  • यह योजना इंफ्रास्ट्रक्चर का सर्वांगीण विकास भी सुनिश्चित करेगी।
  • लोकल मैन्युफैक्चरिंग को वर्ल्ड लेवल पर प्रतिस्पर्धी बनाने में भी यह योजना कारगर साबित होगी।
  • प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना 2022 के माध्यम से नए इकोनॉमिक जोन भी विकसित किए जाएंगे।
  • यह योजना आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चर के साथ इंफ्रास्ट्रक्चर निर्माण में हॉलिस्टिक अप्रोच भी अपनाएगी।
  • आने वाले समय में इस योजना का मास्टर प्लान भी पेश किया जाएगा।
  • एक होलिस्टिक इंफ्रास्ट्रक्चर की नीव योजना के माध्यम से रखी जाएगी।
  • उद्योगों की गति बढ़ाने में भी यह योजना कारगर साबित होगी।
  • देश की अर्थव्यवस्था को भी इस योजना के माध्यम से गति मिलेगी।
  • इस समय देश के मौजूदा ट्रांसपोर्ट के संसाधनों में आपसी तालमेल का भी अभाव है। इस योजना के माध्यम से इस गतिरोध को भी समाप्त किया जाएगा।
Pradhanmantri Gati Shakti Yojana

Pradhanmantri Gati Shakti Yojana 2022 की पात्रता एवं महत्वपूर्ण दस्तावेज

  • आवेदन भारत का स्थाई निवासी होना चाहिए।
  • आधार कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाण पत्र
  • आयु प्रमाण पत्र
  • राशन कार्ड
  • जाति प्रमाण पत्र
  • बैंक खाता विवरण
  • मोबाइल नंबर
  • ईमेल आईडी
  • पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ

प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना के अंतर्गत आवेदन करने की प्रक्रिया।

सरकार द्वारा अभी केवल प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना की घोषणा की गई है। जल्द इस योजना के अंतर्गत आवेदन करने की प्रक्रिया सक्रिय की जाएगी। जैसे ही सरकार द्वारा इस योजना के अंतर्गत आवेदन करने से संबंधित कोई भी जानकारी प्रदान की जाएगी हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से जरूर बताएंगे। तो आप से निवेदन है कि आप हमारे इस लेख से जुड़े रहे।

Leave a Comment