One Nation One Fertilizer Scheme: पीएम ने शुरू की एक देश एक उर्वरक योजना

One Nation One Fertilizer Scheme:- आज के समय में किसानों को गुणवत्तापूर्ण फसल उगाने के लिए  खेती करने में सबसे अधिक आवश्यकता अच्छे खाद एवं उर्वरक की पड़ती है लेकिन देश में खाद-उर्वरकों की बढ़ती हुई कीमतें, काला बाजारी और धांधली के कारण किसानों को खेती करते समय काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। इसी समस्या को रोकने के लिए केंद्र सरकार One Nation One Fertilizer Scheme को शुरू करने जा रही हैं। ताकि रबी एवं खरीफ सीजन के समय किसानों को आसानी से कम कीमतों पर खाद व उर्वरक उपलब्ध करवाया जा सके।

इस योजना के तहत भारत में बिकने वाले अलग-अलग कंपनियों के उर्वरक-खाद भारत ब्रांड (Bharat Fertilizer) के नाम से बेचे जाएंगे। यानी अब भारत में उर्वरक-खाद केवल भारत ब्रांड के नाम से ही बिकेगा। हमारा किसान भाइयों से अनुरोध है कि वह हमारे इस लेख को पूरा अवश्य पढ़ें क्योंकि हमारा यह लेख आपके लिए बहुत ही लाभकारी साबित होने वाला है। क्योंकि आज हम आपको एक देश एक उर्वरक योजना से जुड़े सभी महत्वपूर्ण जानकारियां प्रदान करने जा रहे हैं।

One Nation One Fertilizer Scheme

One Nation One Fertilizer Scheme 2023

केंद्र सरकार द्वारा प्रधानमंत्री जन उर्वरक परियोजना के अंतर्गत One Nation One Fertilizer Scheme 2023 को शुरू किया है। इस योजना के तहत यूरिया, डाई अमोनियम फास्फेट (DAP), म्यूररेट ऑफ ऊटश (MOP), एनपीके “भारत” ब्रांड के नाम जैसे-भारत यूरिया, भारत डीएपी, भारत एमओपी और भारत एनपीके के नाम से बाजार में बेचे जाएंगे। केंद्रीय रसायन एवं उर्वरक मंत्री मनसुख मांडविया ने सभी फर्टिलाइजर कारखानों, स्टेट ट्रेडिंग कंपनियों और फर्टिलाइजर की विपणन कंपनियों को निर्देश जारी कर दिए है कि वह केंद्र सरकार द्वारा सब्सिडी देने वाले सभी उर्वरक की बोरियों पर सिंगल ब्रांड नाम एवं प्रधानमंत्री भारतीय जन उर्वरक परियोजना का Logo लगाए। यानी अब देश के किसानों को एक जैसी फर्टिलाइजर खाद प्राप्त होगा।‌ प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से जुड़ी जानकारी प्राप्त करने के लिए क्लिक करें

वन नेशन वन फर्टिलाइजर स्कीम के माध्यम से किसानों को फ़र्टिलाइज़र की बोरियों पर भारत ब्रांड का लोगो होने से यह स्पष्ट हो जाएगा कि यह खाद केंद्रीय सब्सिडी वाला खाद है और किसान ब्रांड के चक्कर में नहीं पड़ेंगे। जिससे एक ब्रांड और दूसरी ब्रांड के बीच की असमानता खत्म हो जाएगी।

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना

एक राष्ट्र एक उर्वरक योजना के बारे में जानकारी

योजना का नामएक देश एक उर्वरक
शुरू की गईकेंद्र सरकार द्वारा
लांच की गईप्रधानमंत्री जन उर्वरक परियोजना के तहत
लाभार्थीदेश के सभी किसान भाई
उद्देश्यउर्वरक-खाद को बाजार में एक ही ब्रांड “भारत ब्रांड” के नाम से बेचना
योजना की श्रेणीकेंद्रीय योजना
साल2023

बाजार में 2 अक्टूबर से नए डिजाइन के आएंगे उर्वरक बैग

भारत के रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय की ओर से 24 अगस्त को यह अधिसूचना जारी की गई थी कि इस योजना के तहत नए उर्वरक बैग 2 अक्टूबर से प्रचलन में आ जाएंगे। One Nation One Fertilizer Scheme 2023 के तहत उर्वरक कंपनियां को उर्वरक बोरी के एक तिहाई हिस्से पर अपना नाम, ब्रांड, लोगों एवं अन्य आवश्यक सूचनाएं देनी होगी और  बोरी के दो तिहाई हिस्से पर भारत ब्रांड और प्रधानमंत्री जन उर्वरक परियोजना (PMBJP) का लोगो लगाना होगा। देशभर में यह व्यवस्था 2 अक्टूबर से शुरू हो जाएगी। लेकिन निर्माता कंपनियों को नुकसान ना हो इसके लिए सरकार ने उर्वरकों की पुरानी बोरियों की खपत का उपयोग करने के लिए 31 दिसंबर 2022 तक का समय दिया है।

एक देश एक राशन कार्ड योजना

एक देश एक उर्वरक के माध्यम से किसानों को कम कीमत पर मिल सकेगा खाद एवं उर्वरक

रसायन एवं उर्वरक मंत्री मांडविया जी ने बताया है कि केंद्र सरकार किसानों को यूरिया के खुदरा मूल्य के 80% की सब्सिडी देती है। इसी प्रकार डीएपी की कीमत पर 65%, एमपीके की कीमत पर 55%, और पोटाश की कीमत पर 31% सब्सिडी देती है। इसके अलावा उर्वरकों की ढुलाई पर भी सरकार के वार्षिक 6000-9000 करोड़ रुपए लग जाते हैं। उन्होंने ओर यह बताया कि इस समय कई कंपनियां अलग-अलग नाम से उर्वरक बेचती है। इन्हें एक से दूसरे राज्य में भेजने पर ना सिर्फ ढुलाई लागत बढ़ती है बल्कि किसानों को सही समय पर उर्वरक एवं खाद उपलब्ध कराने में भी समस्या आती है।

इसलिए अब केंद्र सरकार एक देश एक उर्वरक द्वारा सब्सिडी देने वाले उर्वरक एक ही ब्रांड के नाम से बाजार में उतारे जाएंगे। यह ब्रांड “भारत ब्रांड”(Bharat Fertilizer)  है। जिससे सब्सिडी वाले उर्वरक-खाद की बढ़ती हुई कीमतों, कालाबाजारी एवं धंधाली पर रोक लग सकेगी और किसानों को सही समय पर कम कीमत पर खाद एवं उर्वरक मिल सकेगा।

One Nation One Fertilizer Scheme का उद्देश्य

एक देश एक उर्वरक (One Nation One Fertilizer Scheme ) को लागू करने का मुख्य उद्देश्य केंद्र सरकार द्वारा सब्सिडी देने वाले उर्वरक वं खाद को कम कीमत पर भारत ब्रांड के नाम से उपलब्ध करवाना है। केंद्र सरकार के निर्देशों के अनुसार  उर्वरकों की नई बोरी पर दो तिहाई हिस्से पर भारत ब्रांड और प्रधानमंत्री भारतीय जन उर्वरक परियोजना लिखा होगा और एक तिहाई हिस्से पर कंपनी का ब्यौरा लिखा होगा। जिससे किसानों को यह पता लग जाएगा कि यह खाद केंद्रीय खाद है और वह कंपनी ब्रांड के चक्कर में नहीं पड़ेंगे। यानी अब वन नेशन वन फर्टिलाइजर स्कीम 2023 के तहत सभी निजी एवं सार्वजनिक कंपनियों को एक ही नाम से अपने उर्वरक बेचने होंगे जो भारत ब्रांड है।

PM Kisan 12th Installment Release Date & Time

One Nation One Fertilizer Yojana के लाभ

  • खाद-उर्वरक की बोरियों पर नये डिजाइन छपने के बाद उत्पादों की काला-बाजारी और धांधली पर रोक लग सकेगी। आगर कोई उर्वरकों की खरीद-बिक्री में कालाबाजारी या धोखाधड़ी करता है तो उसके लिये दंड का प्रावधन भी रखा गया है।
  • एक राष्ट्र एक उर्वरक के माध्यम से किसानों को रबी एवं खरीफ सीजन में सब्सिडी वाली खाद आसानी से प्राप्त हो सकेगी।
  • बाजार में उपलब्ध सभी कंपनियां चाहे वह प्राइवेट या सार्वजनिक हो उनके द्वारा खाद-उर्वरक एक ही दाम पर बेचे जाएंगे। जिससे किसानों को इनकी खरीद में आर्थिक तंगी का सामना नहीं करना पड़ेगा।
  • केंद्र सरकार द्वारा सब्सिडी देने वाले उर्वरक को बेचने वाली सभी कंपनियों के द्वारा Bharat Fertilizer का लोगो इस्तेमाल करने से कंपनियों के बीच होने वाली असमानता खत्म हो जाएगी। अगर देखा जाए तो इस स्कीम का लाभ उर्वरक कंपनियों को भी मिलेगा।
  • One Nation One Fertilizer Yojana से किसानों को कम कीमत पर खेती के लिए खाद व उर्वरक प्राप्त हो सकेंगे।

Leave a Comment