उत्तराखंड मुख्यमंत्री बालश्रय योजना शुरू हुई, अनाथ बच्चों को शिक्षा देगी राज्य सरकार

भारत का हर बच्चा शिक्षित हो इसके लिए केंद्र सरकार एवं सभी राज्य सरकारें मिलकर पूरी दृढ़ता के साथ शिक्षा के क्षेत्र में कार्य कर रही है। ताकि देश के सभी बच्चों के भविष्य को उज्जवल बनाया जा सके। अब हाल ही में उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर धामी जी ने अपने राज्य में अनाथ बच्चों को शिक्षा प्रदान करने के लिए एक नई योजना की घोषणा की है। जिसका नाम उत्तराखंड मुख्यमंत्री बालश्रय योजना है। Uttarakhand Mukhyamantri Balashray Yojana‌ के माध्यम से किसी भी प्रकार की आपदा, महामारी एवं दुर्घटना के कारण अनाथ हुए बच्चों को पहली कक्षा से लेकर बारहवीं कक्षा तक की पढ़ाई राज्य सरकार द्वारा करवाई जाएगी।

यदि आप Mukhyamantri Balashray Yojana‌ से जुड़ी सभी महत्वपूर्ण जानकारियां प्राप्त करना चाहते हैं तो आप बिल्कुल सही लेख पढ़ रहे हैं। क्योंकि आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से इस योजना से जुड़ी सभी महत्वपूर्ण जानकारियां जैसे-इसको शुरू करने का उद्देश्य, लाभ एवं विशेषताएं, पात्रता, महत्वपूर्ण दस्तावेज, आवेदन प्रक्रिया आदि के बारे में बताने जा रहे हैं।

Mukhyamantri Balashray Yojana

उत्तराखंड मुख्यमंत्री बालश्रय योजना क्या है?

5 सितंबर 2022 शिक्षक दिवस के अवसर पर उत्तराखंड के सीएम पुष्कर धामी सिंह जी ने मुख्यमंत्री आवास कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम के दौरान उत्तराखंड मुख्यमंत्री बालश्रय योजना को शुरू करने की घोषणा की है। इस योजना के माध्यम राज्य के उन बच्चों की स्कूली शिक्षा (कक्षा 1 से लेकर 12वीं तक ) की व्यवस्था राज्य सरकार द्वारा करवाई जाएगी जो किसी भी प्रकार की, महामारी, आपदा एवं दुर्घटना के कारण अनाथ हुए हैं। स्कूली शिक्षा की व्यवस्था के साथ-साथ इन बच्चों को किताबें, वर्दी, जूते, मौजें, लिखने पढ़ने की सभी सामग्री भी निशुल्क दी जाएगी। अब Uttarakhand Mukhyamantri Balashray Yojana के माध्यम से किसी आपदा, माहमारी एवं दुर्घटना की वजह से अनाथ हुए बच्चे अपनी स्कूली शिक्षा प्राप्त करने से वंचित नहीं रहेंगे। यह योजना राज्य में पात्र अनाथ बच्चों की शिक्षा को बढ़ावा देगी और उन्हें शिक्षित करने में उत्तराखंड सरकार को सहयोग करेगी।

मुख्यमंत्री उदीयमान खिलाड़ी उन्नयन योजना

Uttarakhand Mukhyamantri Balashray Yojana‌ हाइलाइट्स

योजना का नामMukhyamantri Balashray Yojana‌
घोषित की गईसीएम पुष्कर सिंह धामी जी के द्वारा
घोषित तिथि5 सितंबर सन 2022
लाभार्थीकिसी भी प्रकार की आपदा, महामारी और दुर्घटना के कारण अनाथ हुए बच्चे
उद्देश्यअनाथ बच्चों को 1 से लेकर 12वीं कक्षा तक की स्कूली शिक्षा प्रदान करना
साल2022
राज्यउत्तराखंड
आवेदन प्रक्रियाऑनलाइन
अधिकारिक वेबसाइटअभी मालूम नहीं है

उत्तराखंड मुख्यमंत्री बालश्रय योजना 2022 का उद्देश्य

Uttarakhand Mukhyamantri Balashray Yojana‌ का मुख्य उद्देश्य उन अनाथ बच्चों को स्कूली शिक्षा प्रदान करना है जो किसी भी प्रकार की महामारी, आपदा एवं दुर्घटना की वजह से अनाथ हुए हैं। इस योजना के माध्यम से इन बच्चों को पहली कक्षा से लेकर बारहवीं कक्षा तक की स्कूल शिक्षा की व्यवस्था राज्य सरकार द्वारा करवाई जाएगी। इस योजना का यही लक्ष्य है कि उत्तराखंड के अनाथ बच्चे अपने माता-पिता के बिना स्कूल जाने से वंचित ना रहे और बिना फीस की चिंता किए बिना निरंतर स्कूल जाकर अपनी शिक्षा को हासिल कर सके। क्योंकि कई बार देखा गया है कि जब बच्चे अनाथ हो जाते हैं तो वह फीस के कारण निरंतर गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्राप्त करने से वंचित रह जाते हैं। लेकिन अब मुख्यमंत्री बालश्रय योजना उत्तराखंड 2022 के माध्यम से आपदा, दुर्घटना एवं महामारी के कारण अनाथ हुए बच्चे राज्य सरकार की मदद से गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्राप्त कर पाएंगे।

उत्तराखंड फ्री लैपटॉप योजना

Mukhyamantri Balashray Yojana Uttarakhand के लाभ एवं विशेषताएं

  • मुख्यमंत्री पुष्कर धामी सिंह जी के द्वारा 5 सितंबर 2022 शिक्षक दिवस के अवसर पर उत्तराखंड मुख्यमंत्री बालश्रय योजना को आरंभ करने की घोषणा की है।
  • यह घोषणा मुख्यमंत्री जी के द्वारा अपने आवास कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम के दौरान की गई है।
  • इस योजना के माध्यम से राज्य सरकार द्वारा किसी भी प्रकार की आपदा, महामारी एवं दुर्घटना के कारण अनाथ हुए बच्चों की स्कूली शिक्षा की व्यवस्था करवाई जाएगी।
  • यानी राज्य सरकार ऐसे सभी बच्चों को 1 कक्षा से लेकर 12वीं कक्षा तक की शिक्षा निशुल्क प्रदान करवाईगी।
  • साथ ही उन्हें किताबें, वर्दी, जूते, मौजें और लिखने पढ़ने की सभी सामग्री भी निशुल्क प्रदान करेगी।
  • यह योजना राज्य में आपदा, महामारी और दुर्घटना के कारण अनाथ हुए बच्चों की स्कूली शिक्षा को बढ़ावा देगी और उनके भविष्य को उज्जवल बनाएगी।
  • Uttarakhand Mukhyamantri Balashray Yojana के तहत पात्र अनाथ बच्चे बिना फीस की चिंता किए बिना अपनी स्कूली शिक्षा को अच्छे से पूरी कर सकेंगे।
  • उत्तराखंड के मुख्यमंत्री जी शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न प्रकार की प्रयास करते रहते हैं। यह योजना भी शिक्षा के क्षेत्र में उनका एक सकारात्मक प्रयास ही है।

Uttarakhand Mukhyamantri Balashray Yojana‌ के तहत पात्रता

  • आवेदक को उत्तराखंड का मूल निवासी होना जरूरी है।
  • केवल किसी आपदा, महामारी एवं दुर्घटना के कारण अनाथ हुए बच्चे ही उत्तराखंड मुख्यमंत्री बालश्रय योजना के तहत आवेदन करने के पात्र हैं।

Mukhyamantri Balashray Yojana‌ आवश्यक दस्तावेज

  • आधार कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • आयु प्रमाण पत्र
  • माता पिता की मृत्यु का प्रमाण पत्र (जिस, आपदा, महामारी, दुर्घटना के कारण मृत्यु हुई हो)
  • पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ

उत्तराखंड फ्री टैबलेट योजना 

उत्तराखंड मुख्यमंत्री बालश्रय योजना के तहत आवेदन कैसे करें ?

जो इच्छुक पात्र अनाथ बच्च उत्तराखंड मुख्यमंत्री बालश्रय योजना के तहत आवेदन करके शिक्षा प्राप्त करना चाहते हैं तो अभी उन्हें इस योजना के लॉन्च होने तक का इंतजार करना होगा। क्योंकि सीएम जी के द्वारा शिक्षक दिवस के अवसर पर इस योजना को अभी केवल शुरू करने की घोषणा की गई है। जल्द ही राज्य सरकार और शिक्षा विभाग इस योजना को राज्य में लॉन्च करेंगी। जब राज्य में इस योजना को लांच किया जाएगा और इसके तहत आवेदन की प्रक्रिया की जानकारी सार्वजनिक की जाएगी तब हम आपको अपने इस आर्टिकल के माध्यम से इन सभी जानकारियों के बारे में सूचित कर देंगे। इसलिए आपसे निवेदन है कि Mukhyamantri Balashray Yojana‌ से जुड़ी आवेदन प्रक्रिया और अन्य अपडेट प्राप्त करने के लिए हमारे इस लेख के साथ जुड़े रहे हैं।

Leave a Comment