यूपी ई पड़ताल योजना 2024- फसल का नुकसान होने पर मिलेगा किसानों को मुआवजा

E-Padtal Yojana:- जैसा कि हम सभी जानते हैं कि उत्तर प्रदेश एक कृषि प्रधान देश है। उत्तर प्रदेश में 70 से 75 फ़ीसदी लोग खेती किसानी पर निर्भर करते हैं। राज्य के किसान पारंपरिक खेती करने के साथ-साथ फल, सब्जी, फूलों की भी खेती करते हैं। जिसकी वजह से उत्तर प्रदेश गाना, आलू व गेहूं के उत्पादन में सबसे आगे है। परंतु बारिश बाढ़ के कारण किसानों को फसल नुकसान होने पर विभिन्न परेशानियों का सामना करना पड़ता है लेकिन अब किसानों को फसल नुकसान होने पर चिंता करने की आवश्यकता नहीं होगी। क्योंकि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा किसानों को लाभ देने के लिए एक  खास योजना को शुरू किया जा रहा है। अब किसानों को समय पर फसल नुकसान होने पर मुआवजा दिया जाएगा।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के द्वारा किसानों की आय में वृद्धि करने, सब्सिडी और योजनाओं का लाभ प्रदान करने हेतु डिजिटल फसल सर्वेक्षण ई पड़ताल योजना को शुरू किया जा रहा है। इस योजना के माध्यम से राज्य के सभी किसानों को लाभ मिलेगा। अगर आप भी उत्तर प्रदेश के किसान है और E-Padtal Yojana से जुड़ी अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आपको यह आर्टिकल विस्तार पूर्वक अंत तक पढ़ना होगा।

E-Padtal Yojana 2023

E-Padtal Yojana 2024

उत्तर प्रदेश के किसानों को लाभ प्रदान करने हेतु मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के द्वारा ई पड़ताल योजना शुरू की जा रही है। इस योजना के माध्यम से किसानों की आय में वृद्धि, सब्सिडी और योजनाओं का लाभ प्रदान करने के लिए डिजिटल फसल सर्वेक्षण किया जाएगा। E-Padtal Yojana के तहत यदि किसी किसान को नुकसान होता है तो उसे सरकार द्वारा समय पर फसल नुकसान होने पर मुआवजा दिया जा सकेगा। इसके लिए सरकार द्वारा राज्य के किसानों की फसलों का आंकड़ा जुटाया जाएगा। जिससे पता लगाया जा सकेगा कि किस राज्य में कितना रकबा है ताकि किसानों की फसलों को नुकसान पहुंचने पर समय पर किसान भाइयों को मुआवजा दिया जा सके।

राज्य सरकार द्वारा किसानों की फसलों का डाटा एकत्रित किया जाएगा। जिसके लिए राज्य के किसानों की फसलों की पड़ताल की जाएगी। इसके बाद योजना के माध्यम से सभी आंकड़ों के आधार पर ही किसानों को योजनाओं का लाभ दिया जाएगा। उत्तर प्रदेश में किसानों की फसलों की पड़ताल करने के लिए इस योजना के तहत ट्रेनर्स को ट्रेनिंग दी जाएगी।

उत्तर प्रदेश बेरोजगारी भत्ता 

ई-पड़ताल योजना 2024 के बारे में जानकारी

योजना का नामE-Padtal Yojana
शुरू की गई  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के द्वारा
लाभार्थीराज्य के किसान  
उद्देश्य  किसानों की आय को बढ़ाना, सब्सिडी और योजनाओं का लाभ देना
राज्यउत्तर प्रदेश  
साल  2024
आधिकारिक वेबसाइट  जल्द लॉन्च होगी 

E-Investigation Yojana का उद्देश्य

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के द्वारा ई पड़ताल योजना को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य राज्य में फसलों की सूची को प्राप्त करना है। जिससे सरकार जान सके कि राज्य में किस तरह की फसलों का कितना रकबा है। सरकार के पास फसलों का आंकड़ा एकत्रित होने पर प्राकृतिक आपदाओं से फसलों के बर्बाद होने पर किसानों को जल्दी मुआवजा देना आसान हो जाएगा। साथ ही किसानों की आय में वृद्धि होगी और योजना तथा सब्सिडी का लाभ उठाने के लिए डिजिटल फसल सर्वेक्षण किया जाएगा। जिससे अधिक से अधिक किसानों को फायदा प्रदान किया जा सके। अब किसानों को प्राकृतिक आपदा से होने वाले नुकसान के कारण किसी भी प्रकार की समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा क्योंकि उन्हें समय रहते ही फसल का मुआवजा दे दिया जाएगा।

54 जिलों में पड़ताल का किया जाएगा सर्वे

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के द्वारा शुरू की गई E-Padtal Yojana की खास बात यह है कि खरीफ फसलों का  यह परीक्षण दो चरणों में किया जाएगा। इसके लिए 10 अगस्त से 15 सितंबर तक एक कैंपेन आयोजित किया जाएगा। ई पड़ताल के पहले चरण में 21 जिलों का सर्वेक्षण किया जाएगा। उसके बाद दूसरे चरण में 54 जिलों में फसलों का सर्वेक्षण किया जाएगा। इसके लिए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा राज्य में जिला और तहसील स्तर पर 4 कमेटी बनाई जाएगी जिसकी अध्यक्षता मुख्य सचिव करेंगे।

स्वदेशी गौ संवर्धन योजना

6 पॉइंट्स में फ्रेमवर्क बनाया जाएगा

E-Padtal Yojana के तहत न केवल किसानों की फसलों का डाटा एकत्रित किया जाएगा। बल्कि किसानों की आय बढ़ाने के लिए भी 6 पॉइंट में फ्रेमवर्क भी तैयार किया जाएगा। ई पड़ताल के माध्यम से ही मिले डाटा के आधार पर किसानों को योजनाओं का लाभ प्रदान किया जाएगा। किसानों की फसलों की MSP निर्धारित करने में भी यह आंकड़ा फायदेमंद साबित होगा। साथ ही किसान सरकार द्वारा संचालित की जा रही किसान क्रेडिट कार्ड योजना के माध्यम से सब्सिडी का लाभ पा सकते हैं।

ट्रेनर्स को लखनऊ में दिया जाएगा प्रशिक्षण

राज्य के 75 जनपदों में 350 तहसील स्थित है। जिनमें डाटा को कलेक्ट करने के बाद 31002 अकाउंटेंट के माध्यम से ई पड़ताल योजना के संचालन करने हेतु 35,983 क्लस्टर का डाटा इस सर्वे में शामिल किया जाएगा। प्रत्येक क्लस्टर में फसलों की फोटो उनका स्थान और अन्य महत्वपूर्ण जानकारी फीड किया जाएगा। इस सर्वे में हर जिले में जिला मास्टर ट्रेनर्स और प्रत्येक तहसील में तहसील मास्टर ट्रेनर्स की पहचान की जाएगी। इसके बाद इन ट्रेनर्स को लखनऊ में प्रशिक्षण दिया जाएगा। जिससे कि वह अपना काम सही से कर सकेंगे। 

पड़ताल योजना उत्तर प्रदेश के लाभ एवं विशेषताएं

  • उत्तर प्रदेश में  किसानों की फसलों को मौसम से होने वाले नुकसान से बचाने के लिए E-Padtal Yojana को शुरू किया जा रहा है।
  • इस योजना के माध्यम से सरकार किसानों की आय की आय में वृद्धि, सब्सिडी और योजनाओं का लाभ दिया जाएगा।
  • ई पड़ताल योजना के तहत राज्य के किसानों की फसलों का डिजिटल सर्वे किया जाएगा।
  • फसलों का डिजिटल सर्वे कार्य इसी खरीफ की फसल से आरंभ हो जाएगा।
  • वहीं आगामी रबी एवं जायद की फसलों का भी इसी प्रकार डिजिटल सर्वे हो सकेगा।
  • प्राकृतिक आपदाओं से फसलों को नुकसान होने पर किसानों को जल्दी और आसानी से मुआवजा मिल सकेगा।
  • किसानों को अब प्राकृतिक आपदाओं के कारण हुए नुकसान से आर्थिक समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ेगा।
  • E Investigation Yojana को राज्य सरकार तो चरणों में लागू करेगी।
  • इस योजना के पहले चरण में 15 सितंबर से कैंपेन चलाएं जाएंगे।
  • पहले चरण में 21 और दूसरे चरण में 54 जिलों का सर्वेक्षण किया जाएगा।
  • जिले व तहसील स्तर पर मास्टर ट्रेनर बनाए जाएंगे, जो अन्य ट्रेनर्स को प्रशिक्षित करेंगे।
  • इसके लिए एनआईसी ने सभी ट्रेनर की आईडी बना दी है।
  • ई पड़ताल योजना के माध्यम से सरकार के पास फसलों का डाटा तो होगा ही साथ ही  उनकी आय कैसे बढ़ानी है इसके लिए भी फ्रेमवर्क तैयार किया जाएगा।
  • सभी आंकड़ों के आधार पर ही इस योजना के माध्यम से अब किसानों को योजनाओं का लाभ दिया जाएगा।
  • यह आंकड़ा फसलों की MSP निर्धारित करने में भी फायदेमंद होगा।
  • E-Padtal Yojana किसानों की आय में वृद्धि करेगी जिससे उनकी आर्थिक स्थिति में भी सुधार होगा।  

राष्ट्रीय पारिवारिक लाभ योजना

E-Padtal Yojana 2024 के तहत आवेदन कैसे करें?

ई पड़ताल योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए जो किसान आवेदन करना चाहते हैं तो उन्हें बता दें कि उत्तर प्रदेश के किसानों को इस योजना के तहत आवेदन करने की आवश्यकता नहीं होगी। क्योंकि राज्य के हर जिले में मास्टर ट्रेनर्स और तहसील में तहसील मास्टर ट्रेनर्स के माध्यम से फसलों की फोटो, उनके स्थान और महत्वपूर्ण जानकारी ली जाएगी। इसके बाद मिले सभी आंकड़ों के आधार पर किसानों को योजनाओं का लाभ, अनुदान एवं फसलों के नुकसान होने पर समय पर किसान भाइयों को मुआवजा दिया जा सकेगा।

UP E-Padtal Yojana FAQs

ई पड़ताल योजना क्या है?

E-Padtal Yojana के माध्यम से सरकार द्वारा राज्य के किसानों की फसलों का डिजिटल सर्वेक्षण किया जाएगा। ताकि किसानों को प्राकृतिक आपदाओं से होने वाले नुकसान पर समय रहते मुआवजा दिया जा सके।

E Investigation Yojana को किस राज्य में लागू किया जा रहा हैं?

E-Padtal Yojana को उत्तर प्रदेश राज्य में लागू किया जा रहा है।

ई पड़ताल योजना का उद्देश्य क्या है?

E-Padtal Yojana को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य राज्य में फसलों का आंकड़ा जुटाना है ताकि सरकार पता कर सके कि किस राज्य में कितना रकबा है।

उत्तर प्रदेश के किसानों को ई पड़ताल योजना से क्या लाभ मिलेगा?

E-Padtal Yojana के माध्यम से किसानों की फसलों का डाटा तो लिया ही जाएगा। साथ ही उनकी आय कैसे बढ़ानी है इसके लिए भी फ्रेमवर्क तैयार किया जाएगा। इसके बाद मिले सभी आंकड़ों के आधार पर किसानों को योजनाओं का लाभ दिया जाएगा।

ई पड़ताल योजना कितने चरणों में लागू होगी?

E Padtal Yojana को सरकार दो चरणों में लागू करेगी। जिसके लिए पहले चरण में 21 और दूसरे चरण में 54 जिलों में सर्वेक्षण होगा। 

Leave a Comment