e-Kisan Upaj Nidhi: ई-किसान उपज निधि लोन के लिए ऑनलाइन अप्लाई करें

e-Kisan Upaj Nidhi:- देश के किसानों की तरक्की और उनकी आमदनी को बढ़ाने के लिए मोदी सरकार द्वारा कई प्रकार की योजनाएं संचालित की जा रही है। और अब केंद्र सरकार द्वारा अन्नदाताओं को बिना किसी गारंटी के लोन देने के लिए एक नई योजना को शुरू किया गया है। जिसका नाम ई- किसान उपज निधि योजना है। इसे 4 मार्च को खाद्य उपभोक्ता मामलों के मंत्री पीयूष गोयल ने लांच किया है। e-Kisan Upaj Nidhi के तहत किसानों का गोदाम में रखे अनाज पर भी लोन मिलेगा। तो आईए जानते हैं कि ई-किसान उपज निधि योजना क्या है और इस योजना का लाभ उठाने के लिए किसानों को क्या करना होगा? इन सभी से जुड़ी जानकारी के लिए आपको यह आर्टिकल ध्यानपूर्वक अंत तक पढ़ना होगा। तो चलिए विस्तार से जानते है ई-किसान उपज निधि के बारे में।

e-Kisan Upaj Nidhi

e-Kisan Upaj Nidhi 2024

ई-किसान उपज निधि को 4 मार्च 2024 को उपभोक्ता मामले खाद्य और सार्वजनिक वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने लॉन्च किया है। इस योजना के माध्यम से किसानों को गोदाम में रखे अनाज पर लोन मिलेगा। यह लोन वेयरहाउसिंग डेवलपमेंट एंड रेगुलेटरी अथॉरिटी (WDRA) द्वारा दिया जाएगा। किसानों को इस योजना के तहत सिर्फ रजिस्टर्ड गोदाम में अपने उत्पाद रखने होंगे। जिसके आधार पर उन्होंने लोन दिया जाएगा। e-Kisan Upaj Nidhi के तहत किसानों को 7% की ब्याज दर पर बिना किसी गारंटी यानी कुछ गिरवी रखे बिना आसानी से लोन मिल सकेगा। बिना गारंटी के अन्नदाताओं को लोन मिलने से उनका विकास होगा जिससे उनकी आर्थिक स्थिति भी मजबूत होगी। 

PM Kisan 17th Installment Date  

ई-किसान उपज निधि 2024  के बारे में जानकारी

योजना का नामe-Kisan Upaj Nidhi
लॉन्च किया गयाकेंद्रीय खाद्य एवं उपभोक्ता मंत्री पीयूष गोयल द्वारा  
लाभार्थीदेश के किसान  
उद्देश्यकिसानों को गोदाम में रखे उत्पादों पर लोन प्रदान करना
लोन की सुविधा7 प्रतिशत की ब्याज दर पर  
श्रेणीकेंद्र सरकारी योजना  
आवेदन प्रक्रियाऑनलाइन  
आधिकारिक वेबसाइट  www.jansamarth.in

किसान उपज निधि का उद्देश्य

केंद्र सरकार द्वारा देश के किसानों को लोन की सुविधा देने वाला डिजिटल प्लेटफॉर्म लॉन्च करने का मुख्य उद्देश्य किसानों की आय बढ़ाने और कृषि को आकर्षक बनाने में मदद करना है। ताकि किसानों को पंजीकृत गोदाम में रखे उत्पादन पर आसानी से बैंकों से कर्ज की सुविधा मिल सके। l इस योजना के माध्यम से किसानों को बिना कुछ गिरवी रखे 7% की ब्याज दर पर आसानी से लोन मिल सकेगा। 

कर्ज की रकम और ब्याज दर चुनने का विकल्प

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल योजना को लॉन्च करते हुए बताया कि इस डिजिटल प्लेटफॉर्म के माध्यम से जुड़े बैंक द्वारा किसानों को ब्याज दर और राशि चुनने का विकल्प भी उपलब्ध कराया जाएगा। वर्तमान में डब्ल्यूडीआरए के पास देश भर में लगभग 5,500 गोदाम रजिस्टर्ड है वहीं कृषि से जुड़े गोदामों की कुल संख्या 1 लाख है। पीयूष गोयल ने कहा है कि गोदाम मालिकों से WDRA की ओर से ली जाने वाली सुरक्षा राशि को भी स्टॉक मूल्य का 3% घटाकर एक प्रतिशत किया जाएगा। इस प्रकार इन गोदान में किसानों को अपनी उपज का भंडारण करने के लिए केवल एक प्रतिशत सुरक्षा जमा राशि देनी होगी। ई किसान उपज योजना के माध्यम से किसानों को गोदाम का उपयोग करने और उनकी आमदनी बढ़ाने में मदद मिलेगी। इसके अलावा किसानों की आय बढ़ाने के लिए टेक्नोलॉजी के उपयोग को बढ़ावा दिया जाएगा।

E Shram Card Pension Yojana

कम कीमत की समस्या होगी खत्म

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि ई-किसान उपज निधि किसानों को संकट के समय में उनकी फसल को कम मूल्य पर बेचने से बचाएगी। e- Kisan Upaj Nidhi और टेक्नोलॉजी से किसानों को उपज के भंडारण की सुविधा मिलेगी। जिससे किसानों को उनकी उपज के लिए सही मूल्य प्राप्त करने में सहायता मिलेगी। क्योंकि WDRA के अंतर्गत गोदानों की अच्छी तरह से निगरानी की जाती है जो कृषि की उपज को अच्छी हालत में रखते हैं तथा खराब नहीं होने देते हैं। अब किसानों को संकट में अपनी फसल बेचने के लिए मजबूर नहीं होना पड़ेगा।

कई बार देखा जाता है कि अच्छी फसल होने के बाद भंडारण की सही सुविधा नहीं होने और पैसों की जरूरत की पूर्ति के लिए किसान अपनी पूरी फसल को सस्ती दरों में बेच देते हैं लेकिन अब ऐसा नहीं होगा क्योंकि किसानों को उपज रखने के लिए गोदाम मिलेगा। साथ ही पैसे की जरूरत पड़ने पर वह लोन भी ले सकते हैं।

टेक्नोलॉजी के जरिए MSP दिलाने की पहल

ई-उपज निधि और ई-नेशनल एग्रीकल्चर मार्केट (e-NAM) के साथ देश के अंदर आता एक इंटर कनेक्टेड मार्केट की तकनीक का उपयोग करने में सक्षम होंगे। जहां उन्हें न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) पर या उससे ज्यादा दाम पर अपनी उपज को सरकार को बेचने का विकल्प मिलेगा। गोयल ने कहा कि पिछले एक दशक में एसपी के माध्यम से सरकारी खरीद 2.5 गुना बढ़ी है। मंत्री ने विश्व की सबसे बड़ी सहकारी खाद्यान्न भंडारण योजना के बारे में बोलते हुए WDRA से सहकारी क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले सभी गोदामों का फ्री रजिस्ट्रेशन करने के एक प्रस्ताव की योजना बनाने का आग्रह किया है। सहकारी क्षेत्र के गोदाम को सहायता देने की पहले से किसानों को डब्ल्यूडीआरए गोदाम में अपनी उपज का भंडारण करने के लिए बढ़ावा मिलेगा। जिससे उन्हें फसल बेचने पर उचित मूल्य मिल सकेगा।

e-Kisan Upaj Nidhi के लिए पात्रता

  • इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए देश के सभी किसान पात्र होंगे।
  • पंजीकृत गोदाम में अपनी फसल को रखने पर ही इस योजना का लाभ मिलेगा।
  • आवेदक किसान का बैंक खाता आधार कार्ड से लिंक होना चाहिए।
किसान उपज निधि के लिए आवश्यक दस्तावेज
  • आधार कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • जाति प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाण पत्र
  • बैंक खाता पासबुक
  • मोबाइल नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो

चोरी या खोया हुआ मोबाइल फोन ढूंढे

e-Kisan Upaj Nidhi 2024 के तहत आवेदन कैसे करें?

अगर आप ई-किसान उपज निधि योजना के तहत अपनी फसल को गोदाम में रखने प्राप्त करने हेतु आवेदन करना चाहते हैं तो आप नीचे दी गई प्रक्रिया को अपनाकर आसानी से ई-उपज निधि योजना के तहत ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

  • सबसे पहले आपको e-Kisan Upaj Nidhi की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल जाएगा।
  • होम पेज पर आपको Apply Now के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • क्लिक करते ही आपके सामने नया पेज खुल जाएगा।
  • अब आपको इस पेज पर पूछी गई आवश्यक जानकारी को ध्यानपूर्वक दर्ज करना होगा।
  • इसके बाद आपको मांगे गए दस्तावेजों को अपलोड करना।
  • अंत में आपको सबमिट के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार आप आसानी से e-Kisan Upaj Nidhi के अंतर्गत आवेदन कर सकते हैं।

FAQs

e-Kisan Upaj Nidhi को कब और किसने लॉन्च किया?

e-Kisan Upaj Nidhi को 4 मार्च 2024 को खाद्य एवं उपभोक्ता मामलों के मंत्री पीयूष गोयल ने लॉन्च किया। 

ई-किसान उपज निधि योजना क्या है?

ई-किसान उपज निधि योजना के माध्यम से किसानों को पंजीकृत गोदाम में रखे उनके उत्पादों उत्पादों पर लोन देना है।

क्या ई-किसान उपज निधि योजना के तहत किसानों को बिना गारंटी के लोन मिलेगा?

जी हां, किसानों को बिना कुछ गारंटी यानी गिरवी रखें बिना 7% की ब्याज पर आसानी से लोन मिल सकेगा। किसानों को इसके लिए बस रजिस्टर्ड गोदामों में अपनी फसल को रखना होगा।   

Leave a Comment