(रजिस्ट्रेशन) दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्य योजना: Pandit Dindayal Yojana Apply

Pandit Dindayal Yojana Apply | दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्य योजना रजिस्ट्रेशन | Dindayal Upadhyay Gramin Scheme In Hindi

दोस्तों आज हम आपको दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्य योजना के बारे में बता रहे हैं इस योजना के अंतर्गत आप इस पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कैसे करा सकते हैं भारत सरकार ने लगातार बढ़ रही बेरोजगारी और अपराध को देखते हुए दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्य योजना का शुभारंभ किया था ताकि देश के गरीब बेरोजगार लोगों को रोजगार मुहैया कराया जा सके इसके तहत केंद्र सरकार कई प्रकार की कौशल प्रशिक्षण योजनाओं को चला रही है ताकि इन युवाओं को ट्रेनिंग देकर इन्हें रोजगार उपलब्ध कराया जा सके ताकि अपने भविष्य के साथ साथ देश के विकास में भी अपना पूरा योगदान प्रदान कर सकें इस योजना से जुड़ी सारी जानकारी आज हम आपको दे रहे हैं।

Table of Contents

Pandit Dindayal Yojana 

Pandit Dindayal Yojana का उद्देश्य देश के बेरोजगार युवाओं को अपनी युवा शक्ति का सदुपयोग करना है जिसके जरिए युवाओं को उनके मनपसंद कौशल में ट्रेनिंग दी जाती है जब उनकी ट्रेनिंग पूरी हो जाती है और वह अपने काम में निपुण हो जाते हैं तो उन्हें नौकरी मुहैया कराई जाती है इसके साथ ही सरकार के द्वारा एक प्रमाण पत्र भी दिया जाता है इस प्रमाण पत्र से युवाओं को नौकरी मिलने में काफी आसानी होती है। इसके बाद देश के युवा रोजगार युवा अपने बेरोजगारी को दूर करते हैं इसके साथ ही देश की तरक्की भी होती है।

दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्य योजना की अब तक की सफलता

इस योजना को सन 2014 में राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के अंतर्गत आरंभ किया गया था। इस योजना का संचालन ग्रामीण विकास मंत्रालय द्वारा किया जाता है। इस योजना के माध्यम से ग्रामीण नागरिकों को कौशल प्रशिक्षण प्रदान किया जाता है। जिससे कि वह रोजगार प्राप्त कर सकें। वर्तमान स्थिति में इस योजना को 27 राज्य एवं 3 केंद्र शासित प्रदेशों में संचालित किया जा रहा है। इस योजना के अंतर्गत 2198 ट्रेनिंग सेंटर 1822 प्रोजेक्ट है, 56 सेक्टरों में 839 प्रोजेक्ट इंप्लीमेंटिंग एजेंसीज ट्रेनिंग प्रदान कर रही है और 600 से ज्यादा जॉब रोल है।

 वर्ष 2020–21 के दौरान 28687 लाभार्थियों को ट्रेनिंग प्रदान की गई थी तथा 49396 उम्मीदवारों को 31 मार्च 2021 तक प्लेसमेंट प्रदान कर दी गई है। इस योजना के आरंभ होने की तिथि से 31 मार्च 2021 तक लगभग 10.81 लाख उम्मीदवारों को 56 सेक्टर एवं 600 ट्रेड में ट्रेनिंग प्रदान की जा चुकी है और 6.92 लाख उम्मीदवारों को प्लेसमेंट प्रदान की जा चुकी है।

दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्य योजना एलुमनाई मीट

एलुमनाई मीट दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना बहुत महत्वपूर्ण हिस्सा है। एलुमनाई मीट के माध्यम से पूर्व छात्र वर्तमान छात्रों से मिलकर अपना अनुभव साझा कर सकते हैं। अमृत महोत्सव समारोह मैं 119 एलुमनाई मीट पूरे देश में आयोजित किए गए। यह एलुमनाई मीट 5 अप्रैल 2021 से 11 अप्रैल 2021 के बीच आयोजित किए गए। एलुमनाई मीट में पूर्व छात्रों ने वर्तमान छात्रों से अपने अनुभव साझा करने के साथ-साथ कई अन्य महत्वपूर्ण जानकारियां जैसे कि प्लेसमेंट से संबंधित जानकारी, कैरियर के लक्ष्य, प्रशिक्षण के दौरान रोजगार खोजने से पहले आने वाली चुनौतियों की जानकारी आदि साझा की।

 22 राज्य एवं केंद्र शासित प्रदेशों के राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन एवं विभिन्न परियोजना कार्यान्वयन एजेंसी ने इस योजना का सफलतापूर्वक कार्यान्वयन किया। यह एलुमनाई मीट व्यक्तिगत एवं वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से पी आई ए सेंटर पर आयोजित किए गए। एलुमनाई मीट के दौरान कोविड 19 गाइडलाइंस का पूरा ध्यान रखा गया।

Pandit Dindayal Yojana Highlights

योजना का नाम दीनदयाल उपाध्याय कौशल्य ग्रामीण योजना
विभाग ग्रामीण विकास मंत्रालय भारत सरकार
आरंभ तिथि 25 सितंबर सन 2014 
अंतिम तिथि जारी है 
योजना का उद्देश्य ग्रामीण बेरोजगार युवाओं को रोजगार  उपलब्ध कराना
आधिकारिक वेबसाइट http://ddugky.gov.in/hi/apply-now

दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्य योजना रोजगार सह मार्गदर्शन मेला

Pandit Dindayal Yojana योजना को ग्रामीण क्षेत्र के बेरोजगार नागरिकों को कौशल प्रशिक्षण प्रदान करके रोजगार उपलब्ध करवाना है। इस योजना के अंतर्गत बेरोजगार नागरिकों की योग्यता एवं हुनर की पहचान की जाती है। जिसके पश्चात उनको मार्गदर्शन और प्रशिक्षण प्रदान किया जाता है। इस मार्गदर्शन एवं प्रशिक्षण के माध्यम से ग्रामीण नागरिक अपने लिए रोजगार का चयन कर पाते हैं। 31 मार्च 2021 को एसडीएम विद्यानाथ पासवान जी द्वारा श्रीराम खेल मैदान में आयोजित रोजगार सह मार्गदर्शन मेले का उद्घाटन किया गया है। इस उद्घाटन में उन्होंने लोगों को संबोधित किया है। इस संबोधन में उन्होंने जीविका समूह की महिलाओं की भी सराहना की है।

  • मेले में जीविका समूह की महिलाओं द्वारा बेरोजगार नागरिकों को उनके हुनर के अनुसार रोजगार मार्गदर्शन प्रदान किया गया।
  • मेले में बिहार ग्रामीण जीवकोपार्जन प्रोत्साहन समिति तथा राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के बैनर में सभी बेरोजगार नागरिकों का पंजीकरण किया जाएगा। यह पंजीकरण दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना के अंतर्गत किया जाएगा।
  • पंजीकरण के उपरांत चुने हुए नागरिकों को निशुल्क प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा। जिसके बेरोजगार नागरिकों के लिए रोजगार के अवसर उत्पन्न हो सकेंगे। यदि आप भी इस योजना का लाभ उठाना चाहते हैं तो आपको इस योजना के अंतर्गत पंजीकरण करवाना होगा।

दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्य योजना का उद्देश्य

इस योजना का खास उद्देश्य कम पढ़े लिखे बेरोजगार युवा को ट्रेनिंग देकर इस लायक बनाना कि वह अपने पैरों पर खड़े हो सकें और अपनी बेरोजगारी दूर करने के अलावा देश की तरक्की में योगदान दे सकें। इस योजना का मुख्य उद्देश्य खासतौर पर ग्रामीण क्षेत्रों में वह युवा बेरोजगार जो अपने जीवन से निराश हो चुके हैं उन्हें प्रोत्साहित करना है।

Pandit Dindayal Yojana मूल्यांकन

दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना का मुख्य उद्देश्य गरीब ग्रामीण बेरोजगार युवाओं को प्रशिक्षण एवं प्लेसमेंट प्रदान करना है। इस योजना को कौशल विकास और उद्यमिता और आजीविका विभाग द्वारा कार्यान्वित किया जाता है। कार्यान्वयन एजेंसी द्वारा कौशल प्रशिक्षण प्रदान करके प्लेसमेंट प्रदान की जाती है। Pandit Dindayal Yojana के अंतर्गत प्लेसमेंट प्रदर्शन का मूल्यांकन किया गया है। जिसके अंतर्गत यह पाया गया कि इस योजना के अंतर्गत प्लेसमेंट का प्रदर्शन खराब है। यह मूल्यांकन कर्नाटका इवैल्यूएशन अथॉरिटी के द्वारा किया गया है। मूल्यांकन में निम्नलिखित मुख्य बातें सामने आई हैं।

  • संस्था द्वारा 2014–15 से 2018–19 तक का मूल्यांकन किया है।
  • इस मूल्यांकन में यह पाया गया है कि इस योजना के अंतर्गत इन 5 सालों की अवधि में प्लेसमेंट की दर 36.68% है।
  • यह प्लेसमेंट की दर योजना के दिशा निर्देशों के हिसाब से तथा नेशनल प्लेसमेंट रेट के हिसाब से काफी नीचे है।
  • इस योजना का लाभ ज्यादातर ग्रैजुएट्स को मिल रहा है।
  • कर्नाटका इवैल्यूएशन अथॉरिटी के द्वारा 2687 लोगों पर सर्वेक्षण किया गया था।
  • इनमें से लगभग 40% ग्रैजुएट्स थे।
  • इसका मतलब यह है कि इस योजना का लाभ ज्यादातर शिक्षित बेरोजगार नागरिकों को पहुंच रहा है।
  • मूल्यांकन में यह बात भी सामने आई है कि प्रशिक्षण प्राप्त करने के 3 महीने बाद लगभग 50% लाभार्थियों को प्लेसमेंट प्राप्त हो गई थी। इनमें से कई लाभार्थियों ने कम वेतन होने की वजह से तथा असुविधानक स्थान होने की वजह से नौकरी से इस्तीफा दे दिया था।
  • इस योजना के अंतर्गत अच्छा प्रदर्शन करने वाले जिले कोडागु, उत्तर कन्नड़, मंडाया तथा बेंगलुरु है।
  • Pandit Dindayal Yojana के अंतर्गत कम प्रदर्शन करने वाले जिले दवांगेरे, बीदर, यादगीर तथा बंगाल कोर्ट है।
  • इस योजना के अंतर्गत औसदान मासिक वेतन 8136.45 रुपए है।

दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना प्रशिक्षण कार्यक्रम

दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्य योजना के अंतर्गत 18 दिसंबर 2020 से प्रशिक्षण कार्यक्रम आरंभ कर दिया गया है। ट्रिडेंट ग्रुप ने इस योजना के अंतर्गत 1500 उम्मीदवारों के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम आरंभ किया है। Pandit Dindayal Yojana की पहली बेच का उद्घाटन ट्रिडेंट के तक्षशिला परिसर में किया गया है। जो कि धौला में स्थित है। इस प्रशिक्षण कार्यक्रम के पूरे कार्यकाल के दौरान छात्रों के लिए आवास, कपड़े और भोजन की सुविधा उपलब्ध होगी। इसके लिए छात्रों को समर्पित कार्यवाहक के साथ हॉस्टल ब्लॉक आवंटित किए गए हैं। इस प्रशिक्षण के अंतर्गत कवर किए जाने वाले क्षेत्र अपारेल तथा टेक्सटाइल है। दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना के अंतर्गत 5 जिलों को टारगेट किया जा रहा है। जो कि बरनाला, भटिंडा, संगरूर, फाजिल्का तथा मानसा है। सिलाई मशीन ऑपरेटर और इनलाइन गारमेंट चेकर के दो बैचो के लिए प्रशिक्षण आरंभ हो गया है।

हिमायत फ्री प्लेसमेंट लिंग स्किल ट्रेनिंग प्रोग्राम

हिमायत फ्री प्लेसमेंट लिंक स्किल ट्रेनिंग प्रोग्राम के अंतर्गत जम्मू कश्मीर के नागरिकों को कौशल प्रशिक्षण प्रदान किया जा रहा है। यह प्रोग्राम दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना के अंतर्गत संचालित किया जा रहा है। जिससे कि वह रोजगार प्राप्त कर सकें। इस योजना के माध्यम से जम्मू-कश्मीर में बेरोजगारी की दर में कमी आएगी। यह कौशल प्रशिक्षण उन छात्रों को प्रदान किया जाता है जिन्होंने अपनी पढ़ाई बीच में ही छोड़ दी है एवं उन नागरिकों को भी प्रदान किया जाता है जिनके पास कोई रोजगार नहीं है। हिमायत फ्री प्लेसमेंट लिंक स्किल ट्रेनिंग प्रोग्राम के अंतर्गत छात्रों को यात्रा भत्ता भी प्रदान किया जाता है। जिससे कि वह प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिए संस्थान तक आसानी से पहुंच सके हैं। इसी के साथ उन्हें अध्ययन सामग्री और स्टेशनरी भी प्रदान की जाती है।

  • इस योजना के अंतर्गत जम्मू-कश्मीर के नागरिकों को सॉफ्ट स्किल, अंग्रेजी भाषा तथा इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी स्किल की जानकारी भी प्रदान की जाती है। प्रशिक्षण पूरा होने के बाद इस योजना के अंतर्गत प्लेसमेंट भी की जाती है।
  • जम्मू कश्मीर में इस योजना का कार्यान्वयन हिमायत मिशन मैनेजमेंट यूनिट द्वारा किया जा रहा है। जम्मू कश्मीर में इस योजना के लाभार्थी इस योजना के कार्यान्वयन से बहुत खुश हैं। उन्होंने अपनी खुशी जताते हुए इस योजना की तारीफ की है। कुछ छात्रों ने कहा है कि इस तरह की योजना पूरे भारत मैं कार्यरत की जानी चाहिए। इस योजना के माध्यम से बेरोजगार नागरिक आत्मनिर्भर बनेंगे।

Pandit Dindayal Yojana के लाभ

दीन दयाल उपाध्याय कौशल्या योजना से होने वाले लाभ इस प्रकार है

  • Pandit Dindayal Yojana के अंतर्गत ग्रामीण बेरोजगार युवाओं को अलग-अलग किस्म के कामों की ट्रेनिंग दी जाएगी।
  • इस योजना से प्राप्त होने वाला प्रमाण पत्र पूरे भारत देश में माना जाएगा।
  • इस योजना से ज्यादा से ज्यादा युवाओं को लाभ मिल सके इसके लिए अलग-अलग राज्यों में प्रशिक्षण केंद्र बनाए जाएंगे।
  • दीनदयाल उपाध्याय योजना के तहत 200 ज्यादा अलग-अलग कामों को शामिल किया गया है जिसमें अपनी रुचि के हिसाब से ट्रेनिंग लेकर युवा उसमें निपुण हो सके।
  • इस योजना के तहत बेरोजगार ग्रामीण युवाओं को रोजगार मिल सकेगा।

दीनदयाल उपाध्याय योजना में कौन से कदम शामिल हैं

  • रोजगार के अवसर के बारे में ग्रामीण समुदाय के भीतर जागरूकता बढ़ाना।
  • गरीब ग्रामीण युवाओं की पहचान करना।
  • रोजगार पाने के अवसर ढूंढने वाले ग्रामीण युवाओं को जुटाना।
  • गरीब युवाओं और उनके माता-पिता की काउंसिलिंग।
  • योग्यता के आधार पर कुशलता विकसित करने के लिए युवाओं का चयन
  • रोजगार के अवसर के हिसाब से ज्ञान, उद्योग से जुड़े कौशल और विजन उपलब्ध कराना।
  • ऐसी नौकरी देना जिनका सत्यापन स्वतंत्र तरीके से किया जा सके। 
  • इसमें युवाओं को न्यूनतम मजदूरी से ज्यादा भुगतान मिल सके।
  • नियुक्ति के बाद व्यक्ति की सतत आय में मदद उपलब्ध कराना।

dindayal upadhyay gramin koshalya yojana के जरूरी कागजात

हम यहां पर आपको दीनदयाल उपाध्याय कौशल योजना के अंतर्गत काम आने वाले जरूर कागजातों के बारे में बता रहे हैं जो निम्नलिखित हैं।

  • आधार कार्ड 
  • वोटर आईडी कार्ड 
  • आयु प्रमाण पत्र 
  • आय प्रमाण पत्र 
  • स्थाई निवासी प्रमाण पत्र 
  • तीन पासपोर्ट साइज फोटो

इसके अलावा आवेदक की आयु कम से कम 18 वर्ष और अधिक से अधिक 25 वर्ष होना चाहिए यह योजना खासतौर पर ग्रामीण क्षेत्र के बेरोजगार युवाओं के लिए है बेरोजगार ग्रामीण युवाओं को ही इस योजना का लाभ मिल सकेगा।

दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्य योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया

दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्य योजना का ऑनलाइन आवेदन करने के लिए आपको निम्नलिखित स्टेप्स को फॉलो करना पड़ेगा

  • इसके लिए सबसे पहले आपको दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा |
दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्य योजना
  • इस लिंक पर क्लिक करने के बाद आपको इस वेबसाइट का होम पेज दिखाई देगा।
  • इस होम पेज पर आपको न्यू रजिस्ट्रेशन का ऑप्शन दिखाई देगा जिस पर आप को क्लिक करना है।
दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्य योजना
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने इस योजना का आवेदन फॉर्म खुलकर आएगा। जिस पर आपको फोन नंबर लिखने का ऑप्शन दिखाई देगा इस पर आपको अपना रजिस्ट्रेशन मोबाइल नंबर लिखना है।
  • इस फोर्म में आपको अपने आप से संबंधित सभी जानकारियों को ध्यान से भरना होगा।
  • इस फॉर्म आपसे जरूरी दस्तावेजों के बारे में विवरण मांगा जाएगा।
  • सारे जरूरी दस्तावेजों को आप को स्कैन करके अपलोड करना होगा।
  • इसके बाद आपको सबमिट के बटन पर क्लिक करना होगा।

तो दोस्तों इस प्रकार आप दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना मैं अपना पंजीकरण करा सकते हैं इसके बाद आपको संबंधित अधिकारियों की तरफ से एक s.m.s. द्वारा सूचित किया जाएगा कि आपको कौन से ट्रेनिंग सेंटर में ट्रेनिंग दी जाएगी।

पोर्टल पर लॉगइन करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुलकर आएगा।
  • इसके पश्चात आपको लॉगिन के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
पोर्टल पर लॉगइन
  • अब आपके सामने लॉगइनफॉर्म खुलकर आएगा।
  • आपको इस फॉर्म में अपना यूजरनेम, पासवर्ड तथा कैप्चा कोड दर्ज करना होगा।
  • अब आपको लॉगइन के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार आप पोर्टल पर लॉगिन कर पाएंगे।

PRN रजिस्ट्रेशन करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुलकर आएगा।
  • होम पेज पर आपको PRN रजिस्ट्रेशन के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
PRN रजिस्ट्रेशन
  • अब आपको लॉगइन। PRN रजिस्ट्रेशन के विकल्प अब क्या करना होगा।
  • इसके पश्चात आपको न्यू रजिस्ट्रेशन के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपको प्रोसीड के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद आपको रजिस्ट्रेशन फॉर्म में पूछी गई सभी जानकारी जैसे कि एड्रेस, पिन कोड, स्टेट, डिस्ट्रिक्ट, ब्लॉक आदि दर्ज करना होगा।
  • अब आपको सभी महत्वपूर्ण दस्तावेजों को अपलोड करना होगा।
  • इसके बाद आपको सेव के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार आप पंजीकरण कर पाएंगे।

PRN एप्लीकेशन स्टेटस देखने की प्रक्रिया

PRN एप्लीकेशन स्टेटस
  • उसके पश्चात आपको सर्च कैटेगरी का चयन करना होगा।
  • अब आप को चिन्हित सर्च कैटेगरी के अनुसार जानकारी दर्ज करनी होगी।
  • इसके बाद आपको सर्च के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • संबंधित जानकारी आपकी कंप्यूटर स्क्रीन पर होगी।

क्वेरी भेजने की प्रक्रिया

  • सर्वप्रथम आपको दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुलकर आएगा।
  • इसके पश्चात आपको कांटेक्ट अस के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपको सेंड अस क्वेरी के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
क्वेरी
  • अब आपके सामने क्वेरी फ्रॉम खुलकर आएगा।
  • इस फॉर्म में आपका अपना नाम, मोबाइल नंबर, ईमेल आईडी आदि दर्ज करना होगा।
  • इसके बाद आपको सेव के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार आप क्वेरी भेज पाएंगे।

IEC मटेरियल देखने की प्रक्रिया

  • सर्वप्रथम आपको दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • होम पेज पर आपको प्रेस के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इसके पश्चात आपको आईईसी मटेरियल के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्य योजना
  • जैसे ही आप इस विकल्प पर क्लिक करेंगे आपके सामने आईईसी मटेरियल की सूची खुलकर आ जाएगी।
  • अब आपको डाउनलोड के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • आईईसी मैटेरियल आपकी कंप्यूटर स्क्रीन पर होगा।

PRN चेंज रिक्वेस्ट करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • इसके पश्चात आपको कांटेक्ट अस के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपको PRN चेंज रिक्वेस्ट के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्य योजना
  • उसके पश्चात आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा।
  • इस पेज पर आपको ओल्ड हेल्प डेस्क या फिर न्यू हेल्प डेस्क में से किसी एक का चयन करना होगा।
  • अब आपके सामने लॉगइन पेज खुल कर आएगा।
  • आपको इस लॉगइन पेज पर लॉगिन क्रिडेंशियल्स दर्ज करने होंगे।
  • अब आप PRN रिक्वेस्ट चेंज कर सकते हैं।

PRN हेल्प डेस्क देखने की प्रक्रिया

  • सर्वप्रथम आपको दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • होम पेज पर आपको कांटेक्ट अस के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आप को PRN हेल्पडेस के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
PRN हेल्प डेस्क
  • इसके बाद आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा।
  • इस पेज पर आप PRN हेल्पडेस्क देख सकते हैं।

MPR हेल्प डेस्क से संपर्क करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • इसके पश्चात आपको कांटेक्ट अस के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपको MPR हेल्पडेस्क के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्य योजना
  • इसके पश्चात आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा।
  • इस पेज पर आपको अपना राज्य नाम, मोबाइल नंबर, ईमेल आईडी आदि दर्ज करना होगा।
  • इसके पश्चात आपको सबमिट के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार आप MPR हेल्पडेस्क से संपर्क कर पाएंगे।

ऑफिस मेमोरेंडम डाउनलोड करने की प्रक्रिया

  • सर्वप्रथम आपको दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • होम पेज पर आपको रिसोर्सेस के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इसके पश्चात आपको ऑफिस मेमोरेंडम के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपके सामने सभी ऑफिस मेमोरेंडम की सूची खुलकर आएगी।
  • आपको अपनी आवश्यकता अनुसार विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद आपके सामने पीडीएफ फॉर्मेट में ऑफिस मेमोरेंडम खुलकर आ जाएगा।
  • अब आपको डाउनलोड के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार आप ऑफिस मेमोरेंडम डाउनलोड कर पाएंगे।

ऑफिस ऑर्डर डाउनलोड करने की प्रक्रिया

  • सर्वप्रथम आपको दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • होम पेज पर आपको रिसोर्सेस के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपको ऑफिस ऑर्डर के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
ऑफिस ऑर्डर डाउनलोड
  • इसके पश्चात आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा।
  • इस पेज पर सभी ऑफिस ऑर्डर की सूची होगी।
  • आपको अपनी आवश्यकतानुसार ऑफिस ऑर्डर पर क्लिक करना होगा।
  • इसके पश्चात आपको डाउनलोड के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार आप ऑफिस ऑर्डर डाउनलोड कर पाएंगे।

सिटीजन चार्टर डाउनलोड करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • इसके पश्चात आपको रिसोर्सेज के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपको सिटीजन चार्टर के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
सिटीजन चार्टर डाउनलोड
  • जैसे ही आप इस विकल्प पर क्लिक करेंगे आपके सामने से सिटीजन चार्टर की सूची खुलकर आ जाएगी।
  • आपको अपनी आवश्यकतानुसार विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इसके पश्चात आपके सामने पीडीएफ फॉर्मेट में सिटीजन चार्टर खुलकर आएगा।
  • अब आपको डाउनलोड के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार आप सिटीजन चार्टर डाउनलोड कर पाएंगे।

ग्रीवेंस दर्ज करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुलकर आएगा।
  • होम पेज पर आपको कांटेक्ट अस विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपको ग्रीवेंस सिस्टम के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
ग्रीवेंस सिस्टम
  • इसके बाद आपको ग्रीवेंस के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपको लॉज पब्लिक ग्रीवेंस के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
लॉज पब्लिक ग्रीवेंस
दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्य योजना
  • अब आपके सामने पंजीकरण फॉर्म खुल कर आएगा।
  • आपको इस फॉर्म में निम्नलिखित जानकारी दर्ज करनी होगी।
    • नाम
    • लिंग
    • पता
    • राज्य
    • जिला
    • पिन कोड
    • मोबाइल नंबर
    • फोन नंबर
    • ईमेल एड्रेस
    • कैप्चा कोड
  • इसके पश्चात आपको सेव के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपको मोबाइल नंबर पर प्राप्त हुआ ओटीपी को ओटीपी बॉक्स में दर्ज करना होगा।
  • इसके बाद आपको सबमिट के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपको लॉगइन के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद आपको अपना यूजर नेम, पासवर्ड तथा सिक्योरिटी कोड दर्ज करना होगा।
  • अब आपको लॉगिन के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इसके पश्चात आपको लॉज ग्रीवेंस के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपके सामने ग्रीवेंस फॉर्म खोल कर आएगा।
  • आपको इस फॉर्म में पूछी गई सभी महत्वपूर्ण जानकारी दर्ज करनी होगी।
  • इसके बाद आपको सबमिट के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार आप ग्रीवेंस दर्ज कर पाएंगे।

ग्रीवेंस स्टेटस चेक करने की प्रक्रिया

  • सर्वप्रथम आपको दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुलकर आएगा।
  • इसके पश्चात आपको कॉन्टेक्ट अस के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपको ग्रीवेंस सिस्टम के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्य योजना
  • इसके पश्चात आपको व्यू स्टेटस के ऑप्शन का चयन करना होगा।
  • अब आपको अपना रजिस्ट्रेशन नंबर, ईमेल आईडी या अपने मोबाइल नंबर तथा कैप्चा कोड दर्ज करना होगा।
  • इसके बाद आपको सबमिट के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • ग्रीवेंस स्टेटस आपकी कंप्यूटर स्क्रीन पर होगा।

कौशल पंजी पर कैंडिडेट रजिस्ट्रेशन करने की प्रक्रिया

कौशल पंजी पर कैंडिडेट रजिस्ट्रेशन
कैंडिडेट रजिस्ट्रेशन ऑन कौशल पंजी
  • इसके पश्चात आपको कैंडिडेट रजिस्ट्रेशन के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपको फ्रेश/न्यू रजिस्ट्रेशन का ऑप्शन का चयन करके नेक्स्ट के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इसके पश्चात आपको अपनी एसईसीसी जानकारी, पाते का विवरण, व्यक्तिगत जानकारी, ट्रेनिंग प्रोग्राम का विवरण आदि दर्ज करना होगा।
  • इसके बाद आपको सबमिट के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार आप कौशल पंजी पर कैंडिडेट पंजीकरण कर पाएंगे।

ट्रेनिंग सेंटर ढूंढने की प्रक्रिया

ट्रेनिंग सेंटर
  • इसके बाद आपके सामने एक नया पेज खोलकर आएगा।
  • इस पेज पर आपको अपने राज्य, जिले एवं सेक्टर का चयन करना होगा।
  • अब आपको सबमिट कर विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • संबंधित जानकारी आपकी कंप्यूटर स्क्रीन पर होगी।

कौशल पंजी आईडी सर्च करने की प्रक्रिया

कौशल पंजी आईडी सर्च
  • इसके बाद आपके सामने एक नया पेज खोलकर आएगा।
  • इस पेज पर आपको निम्नलिखित जानकारी दर्ज करनी होगी।
    • राज्य का नाम
    • जिले का नाम
    • कैंडिडेट का नाम
    • पिता का नाम
    • माता का नाम
    • जन्मतिथि
    • कैप्चा कोड
  • अब आपको साइन अप के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • संबंधित जानकारी आपकी कंप्यूटर स्क्रीन पर होगी।

फीडबैक देने की प्रक्रिया

  • सर्वप्रथम आपको दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुलकर आएगा।
  • होम पेज पर आपको फीडबैक के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
फीडबैक
  • इसके पश्चात आपके सामने फीडबैक फॉर्म खुलकर आएगा।
  • आपको फीडबैक फॉर्म में पूछी गई सभी जानकारी जैसे कि आपका नाम, सब्जेक्ट, ईमेल, फीडबैक आदि दर्ज करना होगा।
  • अब आपको सेव के बटन पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार आप फ़ीडबैक दे पाएंगे।

संपर्क विवरण देखने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुलकर आएगा।
  • होम पेज पर आपको कांटेक्ट अस के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद आपको DDU -GKY रिलेवेंट कांटेक्ट के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
संपर्क विवरण
  • संबंधित जानकारी आपकी कंप्यूटर स्क्रीन पर होगी।

Contact Us

Office Address:
Rural Skills Division,
Ministry of Rural Development,
7th Floor, NDCC-II Building,
Jai Singh Road, New Delhi-110001
Office Time: 9:30 A.M. – 5:30 P.M.
[Monday to Friday Except Gazetted Holiday]

Web Information Manager:
Shri Saurabh Kumar Dubey
Designation: Director (RS/RL)
Email Id: [email protected]

Contact Us

Office Address:
Rural Skills Division,
Ministry of Rural Development,
7th Floor, NDCC-II Building,
Jai Singh Road, New Delhi-110001
Office Time: 9:30 A.M. – 5:30 P.M.
[Monday to Friday Except Gazetted Holiday]

Leave a Comment