बिहार फसल विविधीकरण योजना – आंवला नींबू बेल और कटहल की खेती पर मिलेगी किसानो को सब्सिडी

Bihar Fasal Vividhikaran Yojana:- केंद्र सरकार और राज्य सरकार द्वारा किसानों की आय बढ़ाने के लिए नई-नई योजनाएं चलाई जा रही है। इसी दिशा में बिहार सरकार द्वारा भी किसानों के हित में एक बड़ा फैसला लिया गया है। बिहार सरकार किसानों के लिए फसल विविधीकरण योजना के अंतर्गत शुष्क बागवानी कार्यक्रम चला रही है। फसल विविधीकरण योजना के माध्यम से राज्य के किसानों को शुष्क बागवानी करने के लिए बिहार सरकार 50 फीसदी की सब्सिडी दे रही है। ताकि फसल विविधीकरण और जलवायु परिवर्तन को देखते हुए शुष्क बागवानी को बढ़ावा दिया जा सके। शुष्क बागवानी की खेती करने से किसानों की आमदनी में बढ़ोतरी होगी। जिससे उनकी आर्थिक स्थिति में भी सुधार होगा।

अगर आप भी बिहार राज्य के किसान है और जानना चाहते हैं कि बिहार सरकार द्वारा कौन-कौन से फलदार पौधे पर सब्सिडी का लाभ दिया जाएगा। तो आपको यह आर्टिकल ध्यानपूर्वक अंत तक पढ़ना होगा। क्योंकि आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से Bihar Fasal Vividhikaran Yojana से संबंधित संपूर्ण जानकारी उपलब्ध कराएंगे। ताकि आप इस योजना का लाभ उठा सके। तो आइए विस्तार से जानते हैं बिहार फसल विविधीकरण योजना के बारे में।

Bihar Fasal Vividhikaran Yojana 2023-24

Bihar Fasal Vividhikaran Yojana 2023-24

बिहार सरकार द्वारा राज्य के किसानों की आय में वृद्धि करने के लिए फसल विविधीकरण योजना के अंतर्गत शुष्क बागवानी कार्यक्रम चलाया जा रहा है। इस योजना के माध्यम से किसानों को सूक्ष्म सिंचाई प्रणाली के माध्यम से फलदार पौधे जैसे आंवला, नींबू, बेल और कटहल के पेड़ लगाने के लिए सब्सिडी दी जा रही है। फसल विविधीकरण योजना के तहत शुष्क बागवानी कार्यक्रम में किसानों को आंवला, नींबू, बेल और कटहल की खेती करने के लिए 50 फीसदी सब्सिडी दी जाएगी। सब्सिडी राशि का लाभ सीधे लाभार्थी के बैंक खाते में डीबीटी के माध्यम से भेजा जाएगा। इस योजना का लाभ लेने के लिए किसानों को ऑनलाइन आवेदन करना होगा।

फसल विविधीकरण योजना के अंतर्गत शुष्क बागवानी कार्यक्रम के तहत ऑनलाइन आवेदन 29 नवंबर 2023 से शुरू कर दिए गए हैं। इस योजना का मुख्य लक्ष्य सूक्ष्म सिंचाई के माध्यम से कम वर्षा वाले क्षेत्र में फल पौधे को बढ़ावा देना है। इस योजना का संचालन बिहार सरकार उद्यान निदेशालय, कृषि विभाग द्वारा किया जा रहा है। 

Chai Vikas Yojana

बिहार फसल विविधीकरण योजना 2023-24 के बारे में जानकारी

योजना का नामBihar Fasal Vividhikaran Yojana
शुरू की गईबिहार सरकार द्वारा  
संबंधित विभागउद्यान निदेशालय, कृषि विभाग बिहार  
लाभार्थी  राज्य के किसान
उद्देश्य  शुष्क बागवानी करने वाले किसानों को सब्सिडी का लाभ प्रदान करना
सब्सिडी राशि  50 फीसद
राज्य  बिहार
आवेदन प्रक्रियाऑनलाइन  
आधिकारिक वेबसाइट  https://horticulture.bihar.gov.in/

Bihar Fasal Vividhikaran Yojana 2023-24 का उद्देश्य

बिहार सरकार द्वारा फसल विविधीकरण योजना को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य किसानों की आय बढ़ाने के साथ-साथ फसल विविधीकरण और जलवायु परिवर्तन को देखते हुए आंवला, नींबू, कटहल और बेल की खेती को बढ़ावा देने के लिए किसानों को 50 प्रतिशत सब्सिडी प्रदान करना है। ताकि राज्य के किसानों को शुष्क फलों की खेती करने के लिए प्रोत्साहित किया जा सके और उनकी आमदनी में बढ़ोतरी हो सके।

किसानों को कितनी मिलेगी सब्सिडी

बिहार कृषि विभाग की ओर से फसल विविधीकरण योजना के तहत शुष्क बागवानी कार्यक्रम में राज्य किसानों को शुष्क खेती करने के लिए सरकार की ओर से 50 फीसद की सब्सिडी दी जाएगी। इस योजना के अंतर्गत किसानों को फलदार पौधे जैसे आंवला, नींबू, बेल और कटहल के पौधे लगाने पर कुल लागत का 50 फीसद या अधिकतम 50 हजार रुपए प्रति हेक्टेयर दिए जाएंगे। इसके अलावा किसानों को कम से कम 5 पौधों से लेकर 4 हेक्टेयर की खेती करने पर ही सब्सिडी दी जाएगी। राज्य के किसान इस योजना के अंतर्गत प्रति हेक्टेयर आंवला और नींबू के 400 पौधे, बेल और कटहल के 100 पौधे लगा सकते हैं।

कौन उठा सकता है इस योजना का लाभ?

Bihar Fasal Vividhikaran Yojana का लाभ लेने के लिए किसानों को ऑनलाइन आवेदन करना होगा। इसके अलावा शुष्क बागवानी योजना के तहत राज्य के 7 जिलों के किसान इस योजना का लाभ उठा सकते हैं। सरकार द्वारा इस योजना के लिए चयनित किए गए इन जिलों में मानसून के दौरान बारिश कम होती है। इसलिए इन शुष्क फलों की खेती करने से किसानों की आमदनी में बढ़ोतरी होगी। बिहार के 7 जिलों के नाम नीचे दिए गए हैं। इन जिलों के किसान योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए आवेदन कर सकते हैं।

  • गया
  • जमुई
  • मुंगेर
  • नवादा
  • औरंगाबाद
  • कैमूर
  • रोहतास

मुख्यमंत्री प्रखंड परिवहन योजना

बिहार फसल विविधीकरण योजना के लाभ एवं विशेषताएं

  • Bihar Fasal Vividhikaran Yojana के तहत नींबू, आंवला, बेल और कटहल की खेती करने वाले किसानों को बिहार सरकार सब्सिडी देगी।
  • इस योजना के तहत शुष्क बागवानी कार्यक्रम में किसानों को नींबू, बेल, आंवला और कटहल की खेती करने के लिए 50% सब्सिडी दी जाएगी।
  • किसानों को कुल लागत का 50% या अधिकतम 50 हजार रुपए प्रति हेक्टेयर दिए जाएंगे।
  • यह सब्सिडी राशि सीधे लाभार्थी किसान के बैंक खाते में डीबीटी के माध्यम से भेजी जाएगी।
  • इस योजना के तहत केवल ऑनलाइन प्रक्रिया के माध्यम से ही आवेदन स्वीकार किए जाएंगे।
  • बिहार के सात जिलों के किसान इस योजना का लाभ उठा सकते हैं जिसमें गया, जमुई, मुंगेर, नवादा, औरंगाबाद, कैमूर और रोहतास जिले शामिल है।
  • Bihar Fasal Vividhikaran Yojana का लाभ किसानों को कम से कम पांच पौधों से लेकर 4 हेक्टेयर की खेती करने पर ही दिया जाएगा।
  • फसल विविधीकरण योजना के अंतर्गत शुष्क फलों की खेती करने से किसानों की आमदनी में वृद्धि होगी।
  • यह योजना किसानों को शुष्क फलों की खेती करने के लिए प्रोत्साहित करेगी। जिससे कम वर्षा वाले क्षेत्र में फल पौधे को बढ़ावा मिल सकेगा। 

Bihar Fasal Vividhikaran Yojana के लिए पात्रता

  • बिहार फसल विविधीकरण योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए आवेदक को बिहार राज्य का निवासी होना चाहिए।
  • इस योजना के लिए राज्य के छोटे एवं सीमांत किसान आवेदन करने के लिए पात्र होंगे।
  • आवेदक किसान के पास शुष्क फलों की खेती करने के लिए खुद की भूमि होनी चाहिए।
  • किसान न्यूनतम 5 पौधों और अधिकतम 4 हेक्टेयर रकबा की खेती करने पर सब्सिडी के लिए पात्र होंगे।
  • आवेदक किसान का बैंक खाता आधार कार्ड से लिंक होना चाहिए।

बिहार फसल विविधीकरण योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज

  • आधार कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाण पत्र
  • जाति प्रमाण पत्र
  • भूमि से संबंधित दस्तावेज
  • बैंक खाता पासबुक
  • मोबाइल नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो

Bihar Desi Gaupalan Protsahan Yojana

बिहार फसल विविधीकरण योजना 2023-24 के तहत आवेदन कैसे करें?

अगर आप बिहार राज्य के किसान है और फसल विविधीकरण योजना के तहत आवेदन कर सब्सिडी का लाभ प्राप्त करना चाहते हैं तो आप नीचे दी गई प्रक्रिया को अपनाकर आसानी से ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

  • सबसे पहले आपको उद्यान निदेशालय, कृषि विभाग, बिहार सरकार की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल जाएगा।
  • होम पेज पर आपको नीचे की ओर बिहार सरकार द्वारा संचालित की जा रही योजनाओं के नाम दिखाई देंगे।
Bihar Fasal Vividhikaran Yojana 2023-24 के तहत आवेदन कैसे करें?
  • आपको फसल विविधीकरण योजना आवेदन करें के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • क्लिक करते ही आपके सामने नया पेज खुल जाएगा।
  • अब आपको इस पेज पर कुछ नियम और शर्तें ध्यानपूर्वक दिखाई देगी जिस आपको ध्यानपूर्वक पढ़ना होगा।
  • इन नियमों और शर्तों को ध्यानपूर्वक पढ़ने के बाद आपको अपनी सहमति देने के लिए Agree के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • क्लिक करते ही आपके सामने आवेदन फॉर्म खुल जाएगा।
  • अब आपको आवेदन फॉर्म में पूछी गई सभी आवश्यक जानकारी को ध्यानपूर्वक दर्ज करना होगा।
  • सभी जानकारी दर्ज करने के बाद आपको मांगे गए दस्तावेजों को अपलोड करना होगा।
  • अंत में आपको सबमिट के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार आपकी बिहार फसल विविधीकरण योजना के अंतर्गत ऑनलाइन आवेदन करने की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी। 

FAQs

बिहार फसल विविधीकरण योजना क्या है?

बिहार फसल विविधीकरण योजना के अंतर्गत शुष्क बागवानी कार्यक्रम में किसानों को आंवला, नींबू, बेल और कटहल के पेड़ लगाने के लिए सब्सिडी दी जा रही है।

Bihar Fasal Vividhikaran Yojana के तहत शुष्क बागवानी पर किसानों को कितने रुपए की सब्सिडी मिलेगी?

Bihar Fasal Vividhikaran Yojana के तहत शुष्क बागवानी पर किसानों को 50 प्रतिशत या अधिकतम 50 हजार रुपए प्रति हेक्टेयर की सब्सिडी दी जाएगी।

बिहार फसल विविधीकरण योजना के अंतर्गत कितने जिलों के किसान योजना का लाभ उठा सकते हैं?

बिहार फसल विविधीकरण योजना के अंतर्गत बिहार के 7 जिलों के किसान इस योजना का लाभ उठा सकते हैं। इसमें नवादा, जमुई, मुंगेर, गया, औरंगाबाद, कैमूर और रोहतास जिले शामिल है।

Bihar Fasal Vividhikaran Yojana के तहत किसानों को लाभ कैसे मिलेगा?

Bihar Fasal Vividhikaran Yojana के तहत किसानों को कम से कम पांच पौधों से लेकर 4 हेक्टेयर की खेती करने पर ही योजना का लाभ मिलेगा।

बिहार फसल विविधीकरण योजना के तहत आवेदन कैसे करें?

बिहार फसल विविधीकरण योजना के तहत ऑनलाइन प्रक्रिया के माध्यम से कृषि विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर आवेदन किया जा सकता है। 

Leave a Comment