Bansawali Kaise Banta Hai- सिर्फ ₹10 में वंशावली प्रमाण पत्र घर बैठे बनवाएं नई प्रक्रिया से

Bansawali Kaise Banta Hai:- हमें अपनी संपत्ति का बंटवारा करने के लिए कई बार वंशावली प्रमाण पत्र तैयार करवाना पड़ता है। वंशावली प्रमाण पत्र एक संपत्ति प्रमाण पत्र है। जिसके माध्यम से संपत्ति का बंटवारा किया जाता है। पहले की तुलना में अब वंशावली बनाना बहुत आसान हो गया है क्योंकि हाल ही में बिहार सरकार ने वंशावली प्रमाण पत्र बनाने की नई प्रक्रिया लागू की है। आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से न केवल यह बताएंगे कि Bansawali Kaise Banta Hai? बल्कि आपको वंशावली ऑफलाइन बनाने की पूरी प्रक्रिया से संबंधित जानकारी उपलब्ध कराएंगे ताकि आप बिना किसी परेशानी के अपने-अपने वंशावली हेतु आवेदन कर सके और उसका लाभ प्राप्त कर सके। इसलिए आपको यह आर्टिकल ध्यान पूर्वक अंत तक पढ़ना होगा।

Bansawali Kaise Banta Hai 2024

Bansawali Kaise Banta Hai 2024

वंशावली एक ऐसा दस्तावेज है जिसमें किसी परिवार के सदस्यों की वंशावली और गोत्र की जानकारी दर्ज होती है। इसमें परिवार के पूर्वजों से लेकर वर्तमान समय तक के सभी सदस्य का विवरण होता है। विभिन्न प्रकार के कार्यों के लिए वंशावली का प्रयोग किया जाता है। किसानों को कृषि भूमि उनके पूर्वजों से मिलती है। ऐसे में अगर वह कृषि विभाग की किसी भी प्रकार की योजना का लाभ लेना चाहते हैं तो उन्हें वंशावली जैसे दस्तावेजों की आवश्यकता होती है। वंशावली एक तरह से पूर्वजों के बारे में जानकारी है जिसमें आपके दादा, परदादा और पिता कौन है आदि की जानकारी होती है ताकि आप अपने पूर्वजों के आधार पर उनकी संपत्ति का अधिकार प्राप्त कर सके। अलग-अलग कामों व विभिन्न योजनाओं में वंशावली की आवश्यकता होती है।

घर बैठे स्मार्ट मीटर रिचार्ज करें 5 मिनट में

वंशावली प्रमाण पत्र क्या है? के बारे में जानकारी

आर्टिकल का नाम  Bansawali Kaise Banta Hai
दस्तावेज का नामवंशावली प्रमाण पत्र  
राज्यबिहार  
संबंधित विभागराजस्व भूमि सुधार विभाग बिहार सरकार  
आवेदन शुल्क10 रुपए  
आवेदन प्रक्रिया  ऑफलाइन
आधिकारिक वेबसाइट  https://state.bihar.gov.in/

वंशावली की आवश्यकता क्यों होती है?

वंशावली संपत्ति का अधिकार पाने के लिए एक आवश्यक दस्तावेज होता है। अगर आपके दादा पर दादा यह आपके पूर्वज ने आपके लिए किसी प्रकार की कोई संपत्ति रख तो आपको उस पर अधिकार पाने के लिए वंशावली की आवश्यकता होगी। वंशावली का वितरण कुछ इस प्रकार किया जाता है जैसे कि अगर कोई जमीन है जो आपके दादा, परदादा के नाम पर है। लेकिन उनके बाद उस जमीन पर पूरा नियंत्रण रखने के लिए अब आपको वंशावली की आवश्यकता होगी। इसके अलावा ऐसी कई सरकारी योजनाएं हैं जिनका लाभ लेने के लिए आपको वंशावली की आवश्यकता होगी। 

Bansawali Kaise Banta Hai

Bansawali के लिए आवश्यक दस्तावेज

अगर आप नए तरीके से वंशावली बनवाना चाहते हैं तो आपको निम्नलिखित दस्तावेजों की आवश्यकता होगी।

  • आवेदक का आधार कार्ड 
  • पिता / पति का आधार कार्ड
  • आवेदक के दादा का मृत्यु प्रमाण पत्र
  • लिखित आवेदन पत्र
  • निवास प्रमाण पत्र
  • पांच गवाह का आधार कार्ड
  • ग्राम पंचायत के मुखिया, वार्ड सदस्य, आंगनबाड़ी सेविका, चौकीदार का हस्ताक्षर

Bihar Gehu Adhiprapti

वंशावली कैसे बनता है?

वंशावली दो तरीके से बनता है। जिनके माध्यम से आप अपनी वंशावली जारी करवा सकते हैं पहला विकल्प आप अपनी वंशावली अपने ग्राम पंचायत के सरपंच के माध्यम से बनवा सकते हैं। दूसरा आप चाहे तो अपनी वंशावली कोर्ट के माध्यम से भी बनवा सकते हैं। जिस प्रकार की वंशावली आपको चाहिए आप उसके अनुसार अपनी वंशावली बनवा सकते हैं।

कोर्ट के द्वारा वंशावली बनवाने की प्रक्रिया

  • अगर आप कोर्ट से वंशावली बनवाना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको अपने जिला कोर्ट जाना होगा।
  • वहां जाकर आपको वंशावली के लिए आवेदन करना होगा।
  • आवेदन करने हेतु आपको वंशावली का फॉर्म प्राप्त करना होगा। 
  • आवेदन फॉर्म प्राप्त करने के बाद आपको उसमें मांगी गई जानकारी को ध्यानपूर्वक दर्ज करना होगा।
  • साथ ही आपको मांगे गए दस्तावेजों को आवेदन फॉर्म के साथ संलग्न करना होगा। 
  • इसके बाद आपको आवेदन फॉर्म और जरूरी दस्तावेजों को कोर्ट में जमा कर देना होगा। 
  • कुछ दिनों बाद आपकी वंशावली बना दी जाएगी।
  • इस प्रकार आप कोर्ट के द्वारा अपनी वंशावली बनवा सकते हैं।

पंचायत/वार्ड स्तर द्वारा वंशावली बनवाने की प्रक्रिया

  • सरपंच या वार्ड के माध्यम से वंशावली बनवाने के लिए सबसे पहले आपको अपने पंचायत या क्षेत्र के वार्ड कार्यालय में जाना होगा।
  • वहां जाकर आपको वंशावली आवेदन पत्र प्राप्त करना होगा।
  • आवेदन पत्र प्राप्त करने के बाद आपको उसमें पूछी गई सभी जानकारी को सही-सही भरना होगा।
  • उसके बाद आपको अपने ग्राम पंचायत के वार्ड सदस्य, आंगनबाड़ी सेविका तथा चौकीदार एवं मुखिया के हस्ताक्षर और मोहर लगवाना होगा।
  • इसके बाद आपको सभी दस्तावेजों की फोटोकॉपी आवेदन पत्र के साथ संलग्न करनी होगी।
  • अब आपको यह आवेदन पत्र वार्ड सदस्य या पंचायत सचिव के पास जमा कर देना होगा।
  • आपके आवेदन पत्र व सभी दस्तावेजों का पूर्ण रूप से सत्यापन किया जाएगा।
  • जांच करने के बाद आपको वंशावली प्रदान कर दी जाएगी। 
  • इस प्रकार आप आसानी से अपना-अपना वंशावली बनवा सकते हैं और इसका लाभ प्राप्त कर सकते हैं।  

Bansawali Kaise Banta Hai से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी

  • पंचायत कार्यालय में आवेदन के साथ 10 रुपए का नगद भुगतान आवेदन शुल्क के रूप में जमा करना होगा।
  • आवेदक को वंशावली को पुन: जारी करने के लिए पंचायत सचिव के पास 100 रुपए का शुल्क जमा करना होगा।
  • संबंधित कागज से संतुष्ट होकर पंचायत सचिव मोहर लगाकर तारीख के साथ अपनी अनुशंसा ग्राम कचहरी को सौंपेंगे।
  • पंचायत सचिव अग्रेषित आवेदन की छाया प्रति अपने कार्यालय में सुरक्षित रखेंगे।   
FAQs
बिहार में वंशावली कैसे बनता है?

बिहार में पंचायत स्तर पर आप अपने पंचायत निधि सरपंच द्वारा ऑफलाइन प्रक्रिया के माध्यम से वंशावली बनवा सकते हैं।

क्या वंशावली बनवाने के लिए आवेदन शुल्क देना होगा?

जी हां वंशावली बनवाने के लिए आपको केवल 10 रुपए का आवेदन शुल्क देना होगा।  

Leave a Comment