छत्तीसगढ़ बजरंगबली अखाड़ा प्रोत्साहन योजना 2024: आवेदन कैसे करें, लाभ

Bajrangbali Akhada Protsahan Yojana:- छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा अखाड़े की दशा को सुधारने के लिए और पहलवानों की प्रतिभा को निकालने के लिए एक नई योजना का शुभारंभ करने की घोषणा की गई है। जिसका नाम बजरंगबली अखाड़ा प्रोत्साहन योजना है। राज्य में कुश्ती को प्रोत्साहन देने के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने नाग पंचमी के अवसर पर इस योजना की घोषणा की है। इस योजना के माध्यम से पारंपरिक खेलों को प्रोत्साहित किया जाएगा और खेलों का सुंदर वातावरण पूर्ण तैयार किया जाएगा। ताकि कुश्ती की प्रतिभाओं को राष्ट्रीय तथा अंतरराष्ट्रीय मंच पर लाया जा सके। छत्तीसगढ़ में कुश्ती को बढ़ावा देने के लिए छत्तीसगढ़ बजरंगबली अखाड़ा प्रोत्साहन योजना के तहत रायपुर में राज्य स्तरीय कुश्ती अकादमी खोली जाएगी। अगर आप भी अखाड़े में रुचि रखते हैं और Bajrangbali Akhada Protsahan Yojana 2024 से जुड़ी अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आपको यह आर्टिकल ध्यानपूर्वक अंत तक पढ़ना होगा।

Bajrangbali Akhada Protsahan Yojana 2023

Bajrangbali Akhada Protsahan Yojana 2024

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी के द्वारा नाग पंचमी के अवसर पर अखाड़े के संरक्षण और संवर्धन के साथ ही पहलवानों की प्रतिभाओं को निखारने के लिए बजरंगबली अखाड़ा प्रोत्साहन योजना की शुरुआत की गई है। इस योजना के तहत राजधानी रायपुर में राज्य स्तरीय कुश्ती अकादमी खोली जाएगी। जिसके माध्यम से क्षेत्र की प्रतिभाओं को तैयार किया जाएगा। इस अकादमी के माध्यम से कुश्ती की प्रतिभाओं को निखारने का प्रयास किया जाएगा। साथ ही भारत में तथा छत्तीसगढ़ में भी कुश्ती की बड़ी समृद्ध परंपरा फिर से अखाड़े के खेल को पुनर्जीवित किया जाएगा। जहां लोग अखाड़े में पहुंचकर पारंपरिक खेल पहलवानों की कुश्ती को देख सकेंगे। इस योजना के माध्यम से अखाड़े के खिलाड़ियों को उनकी प्रतिभा को राष्ट्रीय तथा अंतरराष्ट्रीय स्तर तक ले जाया जाएगा। जिससे उनका भविष्य उज्जवल होगा। साथ ही राज्य में भी अखाड़े के खेल के लिए अन्य नागरिक प्रोत्साहित हो सकेंगे।

राजीव युवा उत्थान योजना

छत्तीसगढ़ बजरंगबली अखाड़ा प्रोत्साहन योजना 2024 के बारे में जानकारी

योजना का नामBajrangbali Akhada Protsahan Yojana
शुरू की गईमुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी के द्वारा  
लाभार्थी  अखाड़े के पहलवान
उद्देश्य  पुराने अखाड़े का संरक्षण और संवर्धन करना  
राज्य  छत्तीसगढ़
साल  2024
आवेदन प्रक्रिया  ऑफलाइन  

CG Bajrangbali Akhada Protsahan Yojana का उद्देश्य

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी के द्वारा बजरंगबली अखाड़ा प्रोत्साहन योजना को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य राज्य में एक बार फिर से अखाड़े की परंपरा को शुरू करना है। जिसके लिए पारंपरिक खेल कुश्ती को सुंदर वातावरण तैयार करने के लिए अकादमी खोली जाएगी। इस योजना के माध्यम से अखाड़े का संरक्षण और संवर्धन हो सकेगा। पहले पहलवान की कुश्ती जिन अखाड़े में दिखा करती थी जहां पहलवान अपने दांव पेंच दिखाया करते थे लेकिन अब वहां सुना पसरा रहता है। लेकिन इस योजना के माध्यम से इन अखाड़ों को पुनर्जीवित किया जाएगा और एक बार यहां फिर से पहलवानों का दांव पेंच देखने को मिलेगा। जिसके माध्यम से राज्य के प्रतिभाशाली पहलवान राष्ट्रीय तथा अंतरराष्ट्रीय मंच पर लाने के लिए तैयार हो सकेंगे।

अगली नाग पंचमी में पहलवानों और दर्शकों की धूम दिखेगी

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इस योजना के बारे में जानकारी देते हुए कहा है कि नाग पंचमी का त्योहार आमतौर पर कुश्ती के लिए ही जाना जाता है। लेकिन वर्तमान समय में राज्य में ऐसी बहुत कम जगह बची है जहां पर कुश्ती के दंगल आयोजित किया जा रहे हैं। किंतु अगले वर्ष छत्तीसगढ़ राज्य में बजरंगबली अखाड़ा प्रोत्साहन योजना आरंभ होने से अगली नाग पंचमी में बहुत सारा अखाड़े में पहलवान की और दर्शकों की धूम दिखाई देगी और अगली बार छत्तीसगढ़ के लोग नाग पंचमी और ज्यादा उत्साह के साथ मना सकेंगे। 

छत्तीसगढ़ सरस्वती साइकिल योजना

बजरंगबली अखाड़ा प्रोत्साहन योजना 2024 के लाभ एवं विशेषताएं

  • छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा Bajrangbali Akhada Protsahan Yojana को शुरू किया गया है।
  • इस योजना के माध्यम से राज्य में अखाड़े का संरक्षण और संवर्धन किया जाएगा।
  • राज्य के पहलवान अखाड़े में अपनी कुश्ती का प्रदर्शन कर सकेंगे।
  • बजरंगबली अखाड़ा प्रोत्साहन योजना के माध्यम से एक बार फिर से अखाड़े के खेल को पुनर्जीवित किया जाएगा।
  • Bajrangbali Akhada Protsahan Yojana के संचालन हेतु राजधानी रायपुर में राज्य स्तरीय कुश्ती अकादमी खोली जाएगी। जिसमें प्रतिभाशाली पहलवान को तैयार किया जाएगा।
  • इस योजना के माध्यम से कुश्ती को बढ़ावा दिया जाएगा। जिससे पहलवान की प्रतिभा को निखारने में सहयोग मिलेगा।
  • छत्तीसगढ़ राज्य में नाग पंचमी के दिन प्रतिस्पर्धा आयोजित की जाएगी। जहां पर बड़ी संख्या में लोग कुश्ती देखने के लिए आएंगे।
  • जो पहलवान अखाड़े में जीतेंगे उन्हें आर्थिक सहायता या पुरस्कार देकर सम्मानित किया जाएगा।
  • इस योजना के माध्यम से राज्य के युवा अखाड़े में भाग लेकर अपने राज्य व देश का नाम रोशन करेंगे।
  • अखाड़े के खिलाड़ियों की प्रतिभा को राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर तक ले जाया जा सकेगा।
  • इस योजना के माध्यम से राज्य के अखंड के खिलाड़ी लाभ प्राप्त कर अपना भविष्य उज्ज्वल बना सकेंगे।
  • यह योजना राष्ट्रीय में अखाड़े के खेल के लिए अन्य लोगों को भी प्रोत्साहित करेगी।

छत्तीसगढ़ बजरंगबली अखाड़ा प्रोत्साहन योजना के लिए पात्रता

  • आवेदक को छत्तीसगढ़ राज्य का मूल निवासी होना चाहिए।
  • अखाड़े के पहलवान योजना का लाभ लेने के लिए पात्र होंगे।
आवश्यक दस्तावेज
  • आधार कार्ड
  • पहचान पत्र
  • निवास प्रमाण पत्र
  • मोबाइल नंबर

छत्तीसगढ़ ग्रामीण आवास न्याय योजना

छत्तीसगढ़ बजरंगबली अखाड़ा  प्रोत्साहन योजना 2024 के तहत आवेदन कैसे करें?

राज्य के जो भी इच्छुक नागरिक जरंगबली अखाड़ा प्रोत्साहन योजना के तहत आवेदन करना चाहते हैं। उन्हें अभी थोड़ा इंतजार करना होगा। क्योंकि राज्य की राजधानी रायपुर में राज्य स्तरीय कुश्ती अकादमी खोली जाएगी। इस अकादमी में पहलवान भाग लेकर अपने क्षेत्र की प्रतिभा को तैयार कर सकेंगे। जैसे ही छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा अकादमी खोली जाएगी। उसके बाद ही आवेदन किया जा सकेगा।

Bajrangbali Akhada Protsahan Yojana FAQs

Bajrangbali Akhada Protsahan Yojana को किस राज्य में शुरू किया गया है?

बजरंगबली अखाड़ा प्रोत्साहन योजना को छत्तीसगढ़ राज्य में शुरू किया गया है।

बजरंगबली अखाड़ा प्रोत्साहन योजना 2024 क्या है?

Bajrangbali Akhada Protsahan Yojana के माध्यम से राज्य में अखाड़े का संरक्षण और संवर्धन किया जाएगा जिसके लिए कुश्ती जैसे पारंपरिक खेलों का सुंदर वातावरण फिर से तैयार किया जाएगा।

Bajrangbali Akhada Protsahan Yojana के तहत कहां अकादमी खोली जाएगी?

बजरंगबली अखाड़ा  प्रोत्साहन योजना के तहत छत्तीसगढ़ राज्य की राजधानी रायपुर में राज्य स्तरीय कुश्ती अकादमी खोली जाएगी।

छत्तीसगढ़ बजरंगबली अखाड़ा  प्रोत्साहन योजना का उद्देश्य क्या है?

Bajrangbali Akhada Protsahan Yojana का मुख्य उद्देश्य राज्य में पहलवानों की प्रतिभा को निखारना तथा राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर तक पहुंचाना है। 

Leave a Comment